बिहार सरकार का बड़ा फैसला, पेपर लीक या नौकरी में फर्जीवाड़ा किया तो पूरी जिंदगी जेल में सड़ेंगे

BiharNationalTrending
Google news

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की ओर से ली गयी NEET UG-2024 परीक्षा में गड़बड़ी को लेकर पूरे देशभर में मचे हंगामे के बीच बिहार सरकार ने बड़ा एलान किया है। बिहार सरकार ने कहा है कि वह किसी भी नियुक्ति परीक्षा में पेपर लीक या दूसरी गड़बड़ी को रोकने के लिए बेहद ही सख्त कानून बनाने जा रही है। कानून ऐसा होगा कि परीक्षा में गड़बड़ी करने वालों की रूह कांप जायेगी।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस संबंध में अपने मंत्रियों और अधिकारियों के साथ बैठक की है। उन्होंने कहा कि नियुक्ति परीक्षा में किसी तरह की गड़बड़ी को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। बिहार में इस साल बड़े पैमाने पर सरकारी नौकरी दी जानी है। ऐसे में नियुक्ति प्रक्रिया को पूरी तरह से दुरूस्त किया जायेगा।

सरकार बनाएगी कड़ा कानून

मुख्यमंत्री ने अपने अधिकरियों को कहा है कि नियुक्ति के लिए आयोजित होने वाली परीक्षाओं में पूरी तरह से पारदर्शिता बनी रहे। ऐसी परीक्षाओं में किसी तरह की गड़बड़ी नहीं हो और और प्रश्नपत्र लीक न हो। इसके लिए एक सख्त कानून बनाया जाना चाहिये।  सीएम ने कहा कि बिहार सरकार के अधिकारी कानूनविदों से राय लेकर सख्त कानून बनायें और विधानसभा के अगले सत्र में इस प्रस्ताव को लाया जाये। विधानमंडल से कानून पारित कराकर इस तत्काल लागू किया जाये।

बता दें कि नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) की ओर से हाल ही में जारी हुए NEET UG-2024 रिजल्ट में बडे पैमाने पर गड़बड़ी के आरोप लग रहे हैं। इस परीक्षा में पहली बार ऑल इंडिया फर्स्ट रैंक पर कुल 67 स्टूडेंट रहे हैं। आरोप है कि इनमें 16 स्टूडेंट्स के रोल नंबर आसपास थे। हरियाणा, यूपी, गुजरात, राजस्थान, दिल्ली और कर्नाटक के टॉपर्स के मामले में यह गड़बड़ी सामने आई है। वहीं, बिहार और गुजरात से नीट परीक्षा के पेपर लीक की भी बात सामने आयी है।

विगत 4 जून को जब नीट परीक्षा का रिजल्ट आया तब सोशल मीडिया पर #neetfraud ट्रेंड करने लगा। पहली बार नीट में कुल 67 टॉपर्स और ग्रेस मार्क्स देखने के बाद मेडिकल फील्ड में खलबड़ी मच गई। 5 जून से छात्रों का आंदोलन सोशल मीडिया से सड़क तक पहुंच गया। हाथ में बैनर लिए छात्र न्याय की गुहार लगा रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट से लेकर कई हाईकोर्ट में याचिकाएं दायर हो चुकी हैं।

13 जून को एनटीए ने फैसला लिया है कि ग्रेस मार्क्स वाले छात्रों की परीक्षा दोबारा आयोजित कराई जाएगी। लेकिन छात्रों का गुस्सा इतने से नहीं थम रहा है। बिहार और गुजरात से सामने आई पेपर लीक की खबरों से एनटीए की विश्वसनीयता और पारदर्शिता पर कई सवाल खड़े हो गए हैं। इसीलिए छात्र मामले की सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं।

इस मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में भी सुनवाई हुई है। सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सीबीआई जांच कराने वाली याचिका पर आगामी 8 जुलाई को सुनवाई करने का फैसला लिया है। वहीं, केंद्र सरकार ने माना है कि नीट परीक्षा में गड़बड़ी नजर आ रही है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी कहा है कि इसके लिए जिम्मेदार लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जायेगी।

Rajkumar Raju

5 years of news editing experience in VOB.

Adblock Detected!

हमें विज्ञापन दिखाने की आज्ञा दें।