दुनिया का सबसे बड़ा कन्वेंशन सेंटर है 'यशोभूमि', पीएम नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन, जानें खासियत

दुनिया का सबसे बड़ा कन्वेंशन सेंटर है ‘यशोभूमि’, पीएम नरेंद्र मोदी ने किया उद्घाटन, जानें खासियत

NationalTOP NEWS
Google news

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हर वर्ष अपने जन्मदिन के अवसर कुछ ऐतिहासिक काम करने का प्रयास करते हैं। 17 सितंबर यानी आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन है। इस अवसर पर पीएम मोदी ने आज दिल्ली के द्वारका में ‘यशोभूमि’ कहे जाने वाले भारत के पहले ‘इंटरनेशनल कन्वेंशन एंड एक्सपो सेंटर’ (IICC) का उद्घाटन किया। यशोभूमि दुनिया का सबसे बड़ा कन्वेंशन सेंटर है, जिसे 5400 करोड़ रुपये की लागत से विकसित किया गया है। इस कन्वेंशन सेंटर में कई हॉल्स हैं, जहां प्रदर्शिनियां लगाई जा सकेंगी, जो अत्याधुनिक सुख-सुविधाओं से लैस है।

यशोभूमि कन्वेंशन सेंटर की खासियत

यशोभूमि की खासियत की अगर बात करें तो यह दुनिया का सबसे बड़ा MICE (मीटिंग्स, इंसेंटिव, कॉन्फ्रेंस और एग्जीबिशन) सेंटर है। हाल ही में आयोजित जी20 समिट के मद्देनजर जिस भारत मंडपम कन्वेंशन सेंटर को तैयार किया गया था, यशोभूमि उससे भी काफी बड़ा है। यशोभूमि का निर्माण 219 एकड़ में किया गया है। जबकि भारत मंडपम को 123 एकड़ जमीन में तैयार किया गया है। इसके लिए पीएम मोदी ने यशोभूमि द्वारका सेक्टर 25 मेट्रो का भी उद्घाटन किया, जिसे 940 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित किया गया है। यशोभूमि द्वारका सेक्टर 25 एक अंडर ग्राउंड मेट्रो स्टेशन है, जो शहर आईजीआई एयरपोर्ट की टर्मिनल 3 को नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से जुड़ा हुआ है।

3 हजार कारों की पार्किंग

कन्वेंशन सेंटर की खायितों में एक खासियत यह भी है कि यहां एक साथ 3000 कारों को पार्क किया जा सकता है। साथ ही सेंटर के ड्रेनेज वॉटर को दोबारा इस्तेमाल में भी लाया जा सकता है। साथ ही यहां रेन वॉटर हार्वेस्टिंग की सुविधा है। इस कन्वेंशन सेंटर में एक साथ 11 हजार लोगों के बैठने की व्यवस्था की गई है। इसमें 15 कन्वेंशन रूम, ग्रैंड बॉलरूम और 13 मीटिंग रूम्स हैं। सरकार ने इसे तैयार करने में 5400 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। साथही देश की सबसे बड़ी LED स्क्रीन इस कन्वेंशन सेंटर में लगाई जाएगी।

Kumar Aditya

Anything which intefares with my social life is no. More than ten years experience in web news blogging.

Adblock Detected!

हमें विज्ञापन दिखाने की आज्ञा दें।