• Mon. Jun 21st, 2021

मेहनत का दूसरा विकल्प नहीं, भागलपुर के लाल अजय चंद्र ने कस्टम ऑफिसर रह कर पास की BPSC 64वीं की परीक्षा

BySatyam Kumar

Jun 11, 2021

हर एक इंसान जिंदगी में मुश्किलों से जूझते हुए किसी न किसी दिन सफलता हासिल करता है। एक ऐसी ही कहानी की बात करने जा रहे है जिसने कड़ी मेहनत के दम पर बिहार लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास कर ली है। बीपीएससी की ओर से हर वर्ष आयोजित की जाने वाली सिविल सेवा परीक्षा चुनौतिपूर्ण परीक्षाओं में से एक है। केवल बिहार ही नही बल्कि अन्य राज्य के कई युवा बचपन से इस परीक्षा को पास कर एक उच्च अधिकारी बनने का सपना संजोते हैं।

जब कुछ कर दिखाने के लिए इरादे बुलंद हों, तो विपरीत परिस्थितियों में भी राहें बनने लगती हैं। प्रतियोगी परीक्षा को पास करने की रणनीति के बारे में जानने का सबसे अच्छा स्रोत एक सफल अधिकारी की तैयारी की यात्रा के बारे में पढ़ना है। विपरीत परिस्थति और इरादे बुलंद यही एक दृण संकल्पी व्यक्ति की पहचान होती है |

आज हम बात करने जा रहे है बिहार के भागलपुर जिले के एक होनहार की जिन्होंने एक सरकारी नौकरी में रहते हुए भी प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी की और अंततः उन्हें सफलता भी मिली। हम बात कर रहे है अजय चंद्रा की जिन्होंने SSC CGL की परीक्षा पास कर भारत सरकार के GST एवं कस्टम विभाग में ड्यूटी करते हुए भी BPSC 64वीं की परीक्षा दी और 2403 रैंक प्राप्त किया और बिहार सरकार के ब्लॉक एवं पंचायती राज विभाग में नौकरी प्राप्त की।

अजय चंद्रा का बचपन भागलपुर के सिल्क नगरी चंपानगर की गलियों में बीता। बचपन की पढ़ाई सुखराज राय स्कूल से की +2 की पढ़ाई TNB कॉलेज से की उसके बाद मारवाड़ी महाविद्यालय से BCA का कोर्स किया साथ ही प्रतियोगी परीक्षाओं में भी शामिल होते रहे।
2009 में एसएससी CGL में एक्साइज इंस्पेक्टर में इनका चयन हुआ जिसके बाद 2018 में सुपरिटेंडेंट के पद पर इनका प्रमोशन हुआ । GST एवं कस्टम विभाग में ड्यूटी के दौरान अजय चंद्रा को अपने गृह राज्य बिहार की याद आयी और फिर उन्होंने BPSC की परीक्षा दी और सफल हुए। अजय चंद्रा बताते है कि अभी तो ब्लॉक एवं पंचायती राज में सफलता मिली है लेकिन आगे भी कोशिश जारी रहेगी और UPSC एवं BPSC के SDO एवं DSP के पोस्ट के लिए भी प्रयास जारी रहेगी।

युवाओं के लिए खास संदेश:-
बातचीत के दौरान अजय चंद्रा ने आज के युवाओं के लिए
भी एक संदेश दिया जिसमें उन्होंने युवाओं को सोशल मीडिया पर कम समय देने को कहा उन्होंने कहा कि जितनी जरूरत हो उतनी देर तक ही सोशल मीडिया पर समय बिताए एवं कुछ जानकारी वाली बातों को भी उसपर देखें जैसे कि कोई न्यूज हो या कोई डिबेट हो उन चीजों पर ज्यादा ध्यान दे। मेहनत का दूसरा कोई विकल्प नही होता इसलिए मेहनत मेहनत कीजिये सफलता निश्चित मिलेगी।

कितनी देर तक स्टडी:-
अजय चंद्रा बताते है कि अभी ड्यूटी के दौरान ड्यूटी खत्म होने पर अपने आवास पर आकर हर दिन 3-4 घंटे की पढ़ाई करते थे। GST एवं कस्टम सुपरिटेंडेंट से पूर्व हिमाचल प्रदेश के PCS एवं राजस्थान के भी PCS की इंटरव्यू दी। नौकरी लगने के पूर्व कम से कम 8-10 घंटे की पढ़ाई रोजाना होती थी।

भागलपुर के लाल अजय चंद्रा की इस स्टोरी से हमे यह सीखना चाहिए कि राह कितने भी मुश्किल हो आप के अंदर अगर जुनून है जोश है तो आप किसी भी मुकाम को हासिल कर सकते है।
वॉइस ऑफ बिहार (The voice of bihar-VOB) इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करता है।

ऐसे ही आप अपनी भी success स्टोरी हमें भेज सकते है। आप हमारे पेज पर संदेश भेज सकते या आप मेल कर सकते है हमारा मेल आईडी है vobonlinenews@gmail.com।
आप हमारे फेसबुक पर भी कनेक्ट हो सकते है:-
http://facebook.com/vobonlinenews
हमारा यूट्यूब चैनल है:-
http://youtube.com/c/vobonlinenews