• Sat. Jun 25th, 2022

पीठ पर पत्नी को लादे बुजुर्ग ने कहा- ‘भिखारी नहीं हूं, मजबूर हूं’

ByShivam Choudhary

Jul 31, 2021

71 वर्ष की उम्र में एक बुजुर्ग लोगों के सामने फैलाए पीठ पर अपनी जीवन पत्नि लादे भीख मांगने को मजबूर है। येह बहुत ही दर्दनाक है और सरकार की लापरवाही के कारण है। बुजुर्ग से जब इस बारे में बात की गई तो उसने बताया कि उसकी पत्नी साको देवी को पैरों की बीमारी से ग्रसित है जो चल नहीं सकती है। इलाज के लिए पैसे नहीं है तो भीख मांग कर पैसा इकट्ठा कर रहा है।

बुजुर्ग राम प्रवेश ने फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इडिया में करीब 28 वर्षों तक अपनी सेवाएं दीं है और कुछ समय पहले तक ये दुर्ग में पदस्थ थे। हैरानी की बात तो यह है कि इतना अच्छी पोस्ट पर काम करने के बाद ये हालात कैसे। बुजुर्ग ने बताया कि अचानक इसे काम से निकाल दिया गया था। इतना ही नहीं जिंदगी भर की कमाई भी नहीं दी गई। राम प्रवेश के अनुसार करीब 8 लाख से अधिक उसे लेना है।

बुजुर्ग ने इस संबंध में इसने कलेक्टर से भी गुहार लगाई, लेकिन समस्या का हल नहीं हो सका। हर रोज 8-10 घंटे तक पीठ पर चावल की बोरियां ढोने वाला शक्स आज मजबूरीवश अपनी जीवन संगनी के भार को पीठ पर ढो रहा है। रामप्रवेश कहते है, ‘मुझे भीख मांगना पसंद नहीं लेकिन पत्नी के इलाज में खर्च होने वाले हजारों रुपए इकट्ठे करने के लिए मजबूरी में भीख मांगना पड़ रहा है ‘।