• Mon. Jun 21st, 2021

सुप्रीम कोर्ट ने एम्स को दिया सुझाव, 1 महीने के लिए स्थगित कर दें INI CET की परीक्षा

ByShailesh Kumar

Jun 11, 2021

सुप्रीम कोर्ट ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान को सुझाव दिया है कि वो इंस्टीट्यूट ऑफ नेशनल इंपोर्टेंस कंबाइंड एंट्रेंस टेस्ट को एक महीने के लिए स्थगित कर दें. एम्स की ये परीक्षा 16 जून को आयोजित होने वाली है. एम्स की ओर से पेश वकील दुष्यन्त परासर ने कोर्ट के इस सुझाव पर एम्स की राय से अवगत कराने के लिए समय मांगा है. इसी बीच सुप्रीम कोर्ट ने ये साफ किया कि वो परीक्षा को  रद्द करने के पक्ष में बिल्कुल नहीं है, सिर्फ परीक्षा को स्थगित करने पर विचार हो सकता है.

वही दूसरी ओर कोर्ट  ने अंतिम वर्ष के पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में पढ़ रहे मेडिकल छात्रों  की अर्जी पर  सुनवाई करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय, गृह मंत्रालय और नेशनल मेडिकल काउंसिल को नोटिस जारी किया है.

बता दें कि डॉक्टरों के समूह ने समय का हवाला देते हुए परीक्षाओं को स्थगित करने की मांग की है. याचिका में कहा गया है कि डॉक्टर्स फ्रंट लाइन के तौर पर कोरोना मरीजों के इलाज में लगे हैं. कुछ खुद संक्रमित है और अभी बहुत का वैक्सीनेशन नहीं हुआ है. याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि बेहद शॉर्ट नोटिस (19 दिन) पर ये परीक्षा आयोजित करने का फैसला लिया गया है. परीक्षा के सेंटर अलग अलग राज्यों में है. ऐसे में अभी परीक्षा आयोजित करना छात्रों के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करना होगा. उन्होंने मांग की है कि परीक्षाओं को कम से कम अगस्त तक टाल देना चाहिए.

गौरतलब है कि भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) ने 16 जून 2021 को आईएनआई सीईटी की परीक्षा आयोजित करने का फैसला लिया है. हालांकि पहले यह परीक्षा 8 मई को होनी थी, मगर कोरोना वारयरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए इस परीक्षा को स्थगित कर दिया गया था. इसके बाद 27 मई को एम्स की ओर से एक नोटिस जारी किया गया, जिसमें गया कि परीक्षा 16 जून को कराई जाएगी.

आपको बता दें कि मेडिकल संस्थानों में पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स में दाखिले के लिए ये परीक्षा आयोजित होती है. आईएनआई सीईटी परीक्षा का आयोजन मास्टर्स ऑफ सर्जरी (एमएस), डॉक्टर ऑफ मेडिसिन (एमडी), मास्टर ऑफ डेंटल सर्जरी (एमएसडीएस), डॉक्टरेट ऑफ मेडिसिन (डीएम), और मास्टर ऑफ चिरुर्गी (एमसीएच) जैसे पोस्टग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन के लिए होता है. देश में यह कोर्स दिल्ली, भोपाल, भुवनेश्वर, ऋषिकेश समेत कुल 8 एम्स में होते हैं.