आंवला नवमी पर शंकराचार्य ने करवाई थी स्वर्ण के आंवलों की वर्षा

कार्तिक शुक्ल नवमी अर्थात् आंवला नवमी वह दिन है जब आदिगुरु शंकराचार्य ने एक वृद्ध महिला की सहायता करने के लिए स्वर्ण के आंवलों की वर्षा करवाई थी। इसलिए भी आंवला नवमी का महत्व है। यह दिन लक्ष्मी की प्राप्ति का दिन भी है। इस दिन कई लोग लक्ष्मीपूजन भी करते हैं। इस दिन शंकराचार्य ने कनकधारा स्तोत्र की रचना की थी। आंवला नवमी 23 नवंबर 2020 को है।

कथाओं के अनुसार एक बार जगद्गुरु आदि शंकराचार्य भिक्षा मांगने एक गांव में गए। वहां एक कुटिया के सामने जाकर भिक्षाम देहि की आवाज लगाई। वहां एक वृद्धा औरत अकेली रहती थी। वह अत्यंत गरीब थी। अपने लिए एक वक्त का भोजन भी बड़ी मुश्किल से जुटा पाती थी। कभी-कभी तो उसे भूखा ही सोना पड़ता था। शंकराचार्य की आवाज सुनकर वह वृद्धा बाहर आई।

उसके हाथ में एक सूखा आंवला था। वह बोली महात्मन मेरे पास इस सूखे आंवले के सिवाय कुछ नहीं है जो आपको भिक्षा में दे सकूं। शंकराचार्य को उसकी स्थिति पर दया आ गई और उन्होंने उसी समय उसकी मदद करने का प्रण लिया। उन्होंने अपनी आंखें बंद की और मंत्र रूपी 22 श्लोक बोले।

कनकधारा स्तोत्र के श्लोक

ये 22 श्लोक कनकधारा स्तोत्र के श्लोक थे। इससे प्रसन्न होकर मां लक्ष्मी ने उन्हें दिव्य दर्शन दिए और कहा कि शंकराचार्य, इस औरत ने अपने पूर्व जन्म में कोई भी वस्तु दान नहीं की। यह अत्यंत कंजूस थी और मजबूरीवश कभी किसी को कुछ देना ही पड़ जाए तो यह बुरे मन से दान करती थी। इसलिए इस जन्म में इसकी यह हालत हुई है। यह अपने कर्मों का फल भोग रही है इसलिए मैं इसकी कोई सहायता नहीं कर सकती।

शंकराचार्य ने देवी लक्ष्मी की बात सुनकर कहा- हे महालक्ष्मी इसने पूर्व जन्म में अवश्य दान-धर्म नहीं किया है, लेकिन इस जन्म में इसने पूर्ण श्रद्धा से मुझे यह सूखा आंवला भेंट किया है। इसके घर में कुछ नहीं होते हुए भी इसने यह मुझे सौंप दिया। इस समय इसके पास यही सबसे बड़ी पूंजी है, क्या इतनी भेंट पर्याप्त नहीं है। शंकराचार्य की इस बात से देवी लक्ष्मी प्रसन्न हुई और उसी समय उन्होंने गरीब महिला की कुटिया में स्वर्ण के आंवलों की वर्षा कर दी।

लक्ष्मी को कैसे करें प्रसन्न

  • आंवला नवमी के दिन दूध, चावल, मखाने और मिश्री की खीर बनाकर उसमें गुलाब के फूल की कुछ पत्तियां डालकर मां लक्ष्मी को नैवेद्य लगाने से धन की प्राप्ति होती है।
  • आंवला नवमी के दिन पूजा में केसर के तिलक का उपयोग करें और स्वयं भी केसर का तिलक लगाएं। इससे आकर्षण प्रभाव में वृद्धि होती है और परिस्थितियां अनुकूल हो जाती हैं।
  • इस दिन स्वर्ण लक्ष्मी प्रयोग भी किया जाता है। स्नानादि करके शुद्ध श्वेत वस्त्र धारण कर पूजा स्थान में एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर उस पर चावल की ढेरी बनाकर उस पर देवी लक्ष्मी की मूर्ति स्थापित करें। विधिवत पूजन के बाद श्रीसूक्त के 21 पाठ करें। कमलगट्टे की माला से लक्ष्मी के बीज मंत्र श्रीं का जाप करें।

 

Leave a Reply