संजय राउत ने किया जया बच्चन का समर्थन, बोले- कुछ लोगों की वजह से देश की संस्कृति बदनाम हो रही है

 

ड्रग्स मामले में राज्यसभा सांसद जया बच्चन ने रवि किशन पर निशाना साधा और कहा कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं. जया बच्चन के इस बयान पर कंगना रनौत ने कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए जो बयान दिया उसमें जया बच्चन की बेटी श्वेता बच्चन और बेटे अभिषेक बच्चन का नाम भी शामिल कर लिया.

अब इन सबके बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने जया बच्चन का समर्थन किया है. शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि फिल्म इंडस्ट्री के बारे में कुछ लोग जैसी गंदी बातें कर रहे हैं, उससे सिर्फ इंडस्ट्री ही नहीं बल्कि देश की संस्कृति भी बदनाम हो रही है. क्या ये सिर्फ फिल्म इंडस्ट्री में है राजनीति में और किसी क्षेत्र में नहीं. इसे रोकने की जितनी जिम्मेदारी सरकार की है उतनी हमारी भी है.

संजय राउत ने कहा, ”जया जी ने भी यही बात कही कि इंडस्ट्री बदनाम हो रही है कुछ लोगों की वजह से. ऊपर से लेकर नीचे तक 5 लाख के करीब लोगों को ये इंडस्ट्री काम देती है. जो इसे खत्म कर रहे हैं उन्हें रोकना चाहिए.”

क्या कहा था जया बच्चन ने

एक दिन पहले गोरखपुर से सांसद रवि किशन संसद के मानसून सत्र के पहले दिन देश और बॉलीवुड में बढ़ते ड्रग्स के इस्तेमाल और तस्करी के मुद्दे को उठाया था. उन्होंने कहा था,”भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में ड्रग्स की लत काफी ज्यादा है. कई लोगों को पकड़ लिया गया है. एनसीबी बहुत अच्छा काम कर रही है. मैं केंद्र सरकार से अपील करता हूं वह इस पर सख्त कार्रवाई करें, दोषियों को जल्द से जल्द पकड़े और उन्हें सजा दे जिससे की पड़ोसी देशों की साजिश का अंत हो सके.”

जया के इस बयान पर कंगना की आपत्ति

रवि किशन के इस बयान पर जया बच्चन ने आज राज्यसभा में कहा,”कल हमारे एक सांसद सदस्य ने लोकसभा में बॉलीवुड के खिलाफ कहा. यह शर्मनाक है. मैं किसी का नाम नहीं ले रही हूं. वो खुद भी इंडस्ट्री से आते हैं. जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं. गलत बात है. मुझे कहना पड़ रहा है कि इंडस्ट्री को सरकार की सुरक्षा और समर्थन की जरूरत है.”

कंगना की प्रतिक्रिया

कंगना रनौत ने ट्वीट में लिखा, “जया जी क्‍या आप तब भी यही कहतीं अगर मेरी जगह पर आपकी बेटी श्‍वेता को किशोरावस्था में पीटा गया होता, ड्रग्‍स दिए गए होते और शोषण होता. क्‍या आप तब भी यही कहतीं अगर अभिषेक लगातार धमकियां और शोषण की बात करते और एक दिन फांसी से झूलते पाए जाते? थोड़ी हमदर्दी हमसे भी दिखाइए,”

Leave a Reply