विधानसभा चुनाव के पहले कई पार्टियों को नया सिंबल जारी

 

बिहार विधानसभा चुनाव के ठीक पहले चुनाव आयोग में कई राजनीतिक दलों का सिंबल बदल दिया है. चुनाव आयोग ने पप्पू यादव की जन अधिकार पार्टी को अब कैची चुनाव चिन्ह जारी किया है जबकि जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा को कड़ाही का सिंबल दिया गया है. पहले जन अधिकार पार्टी का चुनावी सिंबल हॉकी था और जीतन राम मांझी की पार्टी टेलीफोन के चुनाव चिन्ह के साथ मैदान में उतर रही थी.

इन दोनों दलों के साथ-साथ  12 पार्टियों को आयोग ने सिंबल जारी किया है. राष्ट्रीय जन जन पार्टी को बैट का सिंबल दिया गया है. राजनीतिक पार्टी बनाने वाले भूमिहार ब्राहमण एकता मंच के आशुतोष कुमार की राष्ट्रीय जन जन पार्टी को अब मान्यता मिल गई है. इसके अलावे जनतांत्रिक लोकहित पार्टी को टेलीविजन छाप जनता दल राष्ट्रवादी को डोली का सिंबल, आम जनता पार्टी राष्ट्रीय को चप्पल छाप का चुनाव चिन्ह मिला है.

लोकतांत्रिक के जन स्वराज पार्टी को कैरम बोर्ड, भारतीय लोक नायक पार्टी को रोड रोलर, राष्ट्रीय जन विकास पार्टी को बेबी वॉकर, हिंदुस्तानी संपूर्ण आजाद पार्टी को बैलून, रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया राष्ट्रीय को दूरबीन, मजदूर एकता पार्टी को हैंड कार्ड का सिंबल दिया गया है.

जाप के राष्ट्रीय अध्यक्ष पप्पू यादव ने बताया कि 2015 से चला आ रहा हाकी चुनाव चिन्ह अब आज की तारीख से खत्म हो गया. अब जाप पार्टी का नया चुनाव चिन्ह कैंची छाप है. पार्टी सभी 243 विधानसभा सीटों पर कैंची छाप चुनाव चिन्ह के साथ मैदान में अपने  उम्मीदवार उतारेगी.

पप्पू यादव ने कैंची चुनाव चिन्ह मिलने पर ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा कि “ कैंची  के सहारे बिहार की जनता भ्रष्ट्राचारियों और लुटेरों के पर कतरेगी. हमारा प्रयास होगा कि कैंची बिहार की जनता का अपना चुनाव चिन्ह हो. कैंची इस बार जनता के सामने एक विकल्प के रूप में होगी. आगामी विधानसभा चुनाव में पार्टी की जीत तय है. जाप के एक-एक कार्यकर्ता बिहार में बदलाव के  वाहक बनेंगे. उन्होंने कहा कि नया चुनाव चिन्ह मिलने से लोंगों को हमे समझने में सहूलियत होगी. कैंची चुनाव चिन्ह मिलने पर जाप के सभी शीर्ष नेताओं ने ख़ुशी व्यक्त किया.

 

Leave a Reply