• Sat. May 21st, 2022

मुकेश सहनी ने कहा, देशभर में बंद हो गए 50 हजार से ज्‍यादा सरकारी स्‍कूल, कहां पढ़ेंगे गरीबों के बच्‍चे

BySumit Kumar

May 14, 2022

विकासशील इंसान पार्टी के प्रमुख और बिहार के पूर्व मंत्री मुकेश सहनी (Ex Minister Mukesh Sahani) ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला है। उन्‍होंने शिक्षा के मुद्दे पर सरकार को घेरा है। कहा है कि मंदिर-मस्जिद की बात खूब हो रही है लेकिन शिक्षा की बात कोई नहीं कर रहा। निजीकरण को सरकार प्रमोट कर रही है। इसका असर है कि सरकारी स्‍कूल बंद किए जा रहे हैं। निजी स्‍कूल खोले जा रहे हैं। ऐसे में गरीबों के बच्‍चे कहां पढ़ेंगे। इससे सरकार को कोई मतलब नहीं है।

कोरोना महामारी के पहले दो वर्षों में घटे 50 हजार से ज्‍यादा स्‍कूल

प्रेस नोट जारी कर सहनी ने कहा है कि सरकार निजीकरण (Privatization) को बढ़ावा दे रही है। इसी का नतीजा है कि वर्तमान केंद्र सरकार के कार्यकाल में सरकारी स्‍कूलों की संख्‍या घटती गई तो प्राइवेट स्‍कूलों की संख्‍या में जोरदार इजाफा होता गया। सरकारी स्‍कूलों को बंद किया जा रहा है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि 2018 से 2020 के बीच देश के हजारों स्‍कूल बंद हो गए। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के स्‍कूल शिक्षा विभाग की एक इकाई की रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्‍होंने कहा है कि 2020-21 में भी सरकारी स्‍कूल कम हो गए।

भाजपा शाषित राज्‍यों में हजारों स्‍कूल बंद

युनाइटेड डिस्ट्रिक्‍ट इंफॉर्मेशन सिस्‍टम फॉर एजुकेशन प्‍लस की एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्‍होंने कहा कि 2018-19 में देशभर में सरकारी स्‍कूलों की संख्‍या 10 लाख 83 हजार 678 थी। यह अगले वित्‍तीय वर्ष यानी 2019-2020 में घटकर 10 लाख 32 हजार 570 रह गई। इस हिसाब से देशभर में 51 हजार 108 स्‍कूल कम हो गए। सन आफ मल्‍लाह ने यह भी कहा है कि इसमें कोरोना का बहाना नहीं चलेगा। क्‍यों‍कि ये सभी आंकड़े कोरोना महामारी के पूर्व के हैं। उन्‍होंने बताया है कि यूपी में 26, 704 तथा मध्‍य प्रदेश में 22904 स्‍कूल कम हुए हैं।

वीआइपी नेता का कहना है कि देश में लगभ 17 करोड़ बच्‍चे अभी भी शिक्षा से वंचित हैं। लेकिन जब सरकारी स्‍कूल ही नहीं रहेगा तो ये पढ़ेंगे कहां। प्राइवेट स्‍कूलों में तो गरीबों के बच्‍चे नहीं पढ़ सकते। लेकिन इन सबसे सरकार को कोई मतलब नहीं है। बेकार की बातों को हवा दी जा रही है। जिससे न देश का भला होगा और न जनता का। पार्टी के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता देव ज्‍योति ने यह जानकारी दी है।