• Mon. Jun 21st, 2021

तमिलनाडु में 21 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन, इन मामलों में रहेगी ढील

ByShailesh Kumar

Jun 12, 2021

तमिलनाडु में एम के स्टॉलिन सरकार ने थोड़े अधिक ढील के साथ लॉकडाउन 21 जून तक बढ़ा दिया है.  राज्य के 27 जिलों में सरकार द्वारा संचालित तस्माक की दुकानों को सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे के बीच संचालित करने की अनुमति है. इसके पहले 28 मई को तमिलनाडु में 7 जून सुबह 6 बजे तक के लिए लॉकडाउन बढ़ा दिया गया था. वहीं, तमिलनाडु की सरकार ने चेन्नई के पास एचएलएल बायोटेक लिमिटेड के एकीकृत वैक्सीन कॉम्प्लेक्स (आईवीसी) को एक प्राइवेट पार्टी के साथ पिछले देनदारियों के बिना पट्टे पर चलाने का प्रस्ताव रखा था.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे एक पत्र में तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम.के. स्टालिन ने कहा है कि वैक्सीन परिसर की संपत्ति राज्य सरकार को पूर्ण परिचालन स्वतंत्रता के साथ और पिछले देनदारियों के बिना पट्टे पर सौंपा जाए. स्टालिन ने पीएम मोदी से कहा कि राज्य सरकार द्वारा तुरंत एक उपयुक्त निजी भागीदार की पहचान की जाएगी और इसके बाद जल्द से जल्द वैक्सीन उत्पादन के काम को शुरू करने का प्रयास किया जाएगा. स्टालिन के मुताबिक, “प्लांट में काम शुरू होने के बाद केंद्र सरकार के लिए अपने निवेश का एक हिस्सा वसूल करने के लिए उपयुक्त वित्तीय व्यवस्था पर बाद में काम किया जा सकता है. उच्च क्षमता वाली वैक्सीन उत्पादन इकाई अप्रयुक्त पड़ी है.

उन्होंने आगे कहा कि भारत सरकार पहले ही इस निर्माण इकाई में लगभग 700 करोड़ रुपये का निवेश कर चुकी है, जो लगभग पूरा हो चुका है, लेकिन अतिरिक्त धन के अभाव में अप्रयुक्त पड़ा हुआ है. स्टालिन ने पीएम की ओर इशारा करते हुए कहा कि आईवीसी को चलाने के लिए एक निजी भागीदार खोजने का हालिया प्रयास भी सफल नहीं हुआ, क्योंकि इसके लिए कोई बोली लगाने वाला नहीं था.

तमिलनाड़ु सरकार करेगी 2,100 चिकित्सकों और 6,000 नर्सो की भर्ती

तमिलनाडु के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री मा सुब्रमण्यम ने कहा कि राज्य सरकार कोविड के खिलाफ अपनी लड़ाई को और मजबूत करने के लिए 2,100 डॉक्टरों, 6,000 नर्सों और 3,700 तकनीकी कर्मचारियों की भर्ती करेगी. उन्होंने यह भी कहा कि एमके स्टालिन की सरकार ने सभी जिला प्रशासनों को निर्देश दिया है कि वे कोविड के कारण होने वाली मौतों की सही संख्या की जानकारी दें और इन्हें न छिपाएं क्योंकि इससे लोगों में बीमारी की गंभीरता को लेकर सही जागरूकता पैदा करने में मदद मिलेगी. एक मीडिया विज्ञप्ति में सरकार ने कहा कि उनके द्वारा तिरुनेलवेली मेडिकल कॉलेज अस्पताल में मौजूदा 1,600 बेडों के अलावा 500 ऑक्सीजन युक्त बेड शामिल की जाएगी.