लॉकडाउन के दौरान बिहार सरकार के खर्च की हो CBI जांच:- पप्पू यादव

पटना :- लॉक डाउन के कारण विभिन्न राज्यों में फंसे बिहारी मजदूरों की वापसी के साथ उन्हें क्वॉरेंटाइन सेंटर में रखे जाने और उस पर किए गए खर्च को लेकर विपक्ष लगातार सरकार पर हमलावर है। इसी क्रम में जन अधिकार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व सांसद पप्पू यादव ने नीतीश सरकार पर करण टाइम्स सेंटर घोटाले का गंभीर आरोप लगाया है।

पप्पू यादव ने क्वारंटाइन सेंटर्स पर राज्य सरकार द्वारा किए गए खर्चों को लेकर कहा कि क्वारंटाइन सेंटर्स में प्रवासी लोगों को स्टील की थाली, ग्लास, चम्मच और अन्य बर्तन, पुरुष के लिए धोती, लुंगी, महिलाओं के लिए साड़ी, बच्चों के लिए पैंट शर्ट और बच्चियों के फ्रॉक के लिए सरकार लगभग 88 करोड़ रुपए खर्च करने का दावा कर रही है। उन्होंने कहा कि इसमें से 80 फीसदी रुपए नेताओं और पदाधिकारियों ने गबन कर लिया। इतना ही नहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में 4 मास्क और एक साबुन, प्रत्येक की कीमत 20-20 रु. के हिसाब से ₹100 बताई गई है, के वितरण मैं 58 करोड़ रुपए खर्च सरकार दिखा रही है। पप्पू यादव ने इस मामले में बचत घोटाले का आरोप लगाते हुए कहा कि इनमें 3-4 रुपए मास्क और 2-3 रुपए का साबुन की कीमत है। पप्पू यादव ने कहा कि लॉकडाउन के दौरान बिहार सरकार ने जितना खर्च किया, उसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।

7 जून को भाजपा की प्रस्तावित डिजिटल रैली के बारे में जाप अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा गरीबों के लाश पर ताज पहनने की राजनीति कर रही है। देशभर में गरीब लोग भूख से परेशान हैं और भाजपा को चुनाव की चिंता है।

पप्पू यादव ने कहा कि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में 82 मौतें हुई हैं। इसकी न्यायिक जांच होनी चाहिए और रेल मंत्री पीयूष गोयल पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302 के तहत मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए।

जाप सुप्रीमो ने कहा कि जब मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोटा से छात्रों और दूसरे राज्यों से मजदूरों को वापस लाने से मना कर दिया हमने बसों और ट्रेनों का इंतजाम किया और छात्रों और मजदूरों को वापस बिहार लाए। हमने दिल्ली से बिहार के अलग-अलग जिलों के लिए 362 बसें चलाईं। उन्होंने कहा कि कोटा से सात ट्रेनें चलवाईं और दिल्ली के 60 हजार मजदूरों को टिकट के लिए पैसे दिए। 7 लाख 62 हजार लोगों तक राशन पहुंचाया और दस हजार से अधिक लोगों को सीधे उनके बैंक अकाउंट में दो-दो हजार रुपए दिए।

पप्पू यादव ने कहा कि बिहार वापस लौटे सभी प्रवासी मजदूरों तक हम पहुंचेगे। हमारी पार्टी हर प्रवासी मजदूर को पांच किलोग्राम चावल, एक लीटर तेल, एक किलोग्राम दाल, मसाला और दो साबुन देंगे। किसानों और मजदूरों पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि के तहत मजदूरों को 300 दिनों का कार्य और तीन महीने का वेतन सरकार एडवांस में दें । किसानों की खरीफ फसलें बर्बाद हो गई हैं। सरकार हर किसान को 12-12 हजार रुपए सीधे उनके खाते में पैसे भेजें।

Leave a Reply