• Sun. Sep 26th, 2021

कटिहार मेयर शिवराज पासवान हत्याकांड में पांचवां आरोपी गिरफ्तार

BySatyavrat Singh

Aug 2, 2021

भागलपुर:- कटिहार मेयर शिवराज पासवान हत्याकांड में पांचवां आरोपी गिरफ्तार किया गया है। आरोपी की गिरफ्तारी सिलीगुड़ी से की गई है। मामले में अब तक दो महिलाओं समेत कुल पांच लोगों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। वहीं, इस हत्याकांड में पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे हैं। सीसीटीवी फुटेज भी मिला है। इस सीसीटीवी फुटेज में मौका-ए-वारदात से भागते हुए अपराधी साफ तौर पर देखे जा सकते हैं।

ऐसा कहा जा रहा है कि ये सीसीटीवी फुटेज अपराधियों का पर्दाफाश कर देगा। सीसीटीवी फुटेज 29 जुलाई का है, जिसमें वारदात का समय रात के नौ बजकर बीस मिनट पर दिख रहा है। इस फुटेज में एक लाल रंग का टीशर्ट पहने अपराधी अन्य बदमाशों के साथ भागता दिखाई पड़ रहा है। वहीं, फुटेज में एक महिला और एक अन्य पुरुष भी दिखाई दे रहा है। सभी अपराधी वारदात को अंजाम देने के बाद फरार होते दिखाई दे रहे हैं। मेयर शिवराज हत्याकांड में कुल 12 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। इनमें से पांच की गिरफ्तारी की गई है।

मेयर हत्याकांड का आरोपित शुभम साकेत शहर के लालकोठी का रहने वाला है। हाल ही में मुफ्फसिल थाना के हफलगंज में एक डॉक्टर से रंगदारी मांगने व क्लीनिक पर गोलीबारी मामले में भी उसे आरोपित बनाया गया था। निवर्तमान मेयर की हत्या के बाद शुभम सिलीगुड़ी में रहने वाले एक रिश्तेदार के घर में छिपा हुआ था। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक शुभम ने तीन बार अपना ठिकाना बदला। पुलिस अधीक्षक ने अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर विशेष टीम का गठन किया था। शुभम के सिलीगुड़ी में छिपे होने की सूचना पर छापेमारी की कार्रवाई की गई। फरार अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी को लेकर छापामारी की जा रही है।

गिरफ्तार पांच आरोपी में तीन पुरुष और दो महिलाएं शामिल हैं। गिरफ्तार दोनों महिलाएं मां-बेटी हैं जिनका नाम कुमकुम श्रीवास्तव और मनीषा श्रीवास्तव बताया जा रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि कुमकुम की बेटी मनीषा ने हत्या के कुछ मिनटों पहले ही मेयर को फोन किया था। वारदात वाले दिन उसने कई फोन काल मेयर को किए थे। पुलिस ने इस मामले में मृतक के भाई के फर्द बयान पर कुल बारह लोगों के खिलाफ स्थानीय नगर थाने में प्राथमिकी दर्ज की है, जिसमें ग्यारह नामजद और एक अज्ञात शामिल हैं। कटिहार मेयर की हत्या नगर थाना क्षेत्र के संतोषी चौक इलाके में हुई थी। उन्हें सीने में तीन गोलियां मारी गई थी। हत्या को उस वक्त अंजाम दिया गया, जब मेयर अपनी बुलेट से किसी पंचायती से वापस घर लौट रहे थे। उस समय उनके साथ बॉडीगार्ड भी नहीं था।