• Fri. Jul 30th, 2021

The Voice of Bihar-VOB

खबर वही जो है सही

कहलगांव विधानसभा : कांग्रेस के शुभानंद मुकेश और बीजेपी के पवन कुमार के बीच कड़ा मुकाबला

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में भागलपुर की कहलगांव विधानसभा सीट पर मतगणना शुरू हो चुकी है। कहलगांव सीट को आज अपना नया विधायक मिल जाएगा। कहलगांव में पहले चरण में 28 अक्तूबर को चुनाव हुआ था। यहां 57.1 फीसद मतदान हुआ था। इस सीट पर 14 उम्मीदवार मैदान में थे। लेकिन यहां पर कांग्रेस के शुभानंद मुकेश और बीजेपी के पवन कुमार यादव के बीच कड़ा मुकाबला है।

लाइव अपडेट्स-

  • दूसरे राउंड में भी कांग्रेस के शुभानंद मुकेश ही आगे चल रहे हैं, लेकिन बीजेपी के पवन कुमार यादव मात्र 765 वोटों से ही पीछे टल रहे हैं।

– पहले राउंड के शुरूआती रूझानों में बीजेपी के पवन कुमार यादव पीछे, कांग्रेस के शुभानंद मुकेश चल रहे हैं आगे
शुभानंद मुकेश (कांग्रेस)- 2905
पवन कुमार यादव (बीजेपी)- 2247

कहलगांव में पहले चरण में 28 अक्तूबर को चुनाव हुआ था। यहां 57.1 फीसद मतदान हुआ था। इस सीट पर 14 उम्मीदवार मैदान में थे। कांग्रेस के शुभानंद मुकेश और बीजेपी के पवन कुमार यादव के अलावा भारतीय समता समाज पार्टी के भागीरथ कुमार और बसपा के कृष्ण कुमार मंडल मैदान में थे। शुरू से ही लड़ाई कांग्रेस और भाजपा के बीच ही थी।

भागलपुर का कहलगांव सीट कांग्रेस का गढ़ मानी जाती है। यहां से कांग्रेस के दिग्गज नेता सदानंद सिंह नौ बार से विधायक रहे। इस बार वह खुद चुनावी मैदान में नहीं उतरे। उन्होंने अपने बेटे शुभानंद मुकेश को कांग्रेस के टिकट पर उतारा था।

कहलगांव में विधानसभा के अब तक 17 चुनाव हुए हैं। इस सीट पर कांग्रेस का ही बोलबाला रहा है। उसे 12 चुनावों में यहां पर जीत मिली है। सबसे अधिक जीत शुभानंद मुकेश के पिता सदानंद सिंह को मिली है।

पिछली बार कहलगांव सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी सदानंद सिंह और लोजपा प्रत्याशी नीरज कुमार मंडल के बीच टक्कर थी। भाजपा और लोजपा ने पिछली बार मिलकर चुनाव लड़ा था ऐसे में भाजपा का प्रत्याशी नहीं था। 2015 के चुनाव में सदानंद सिंह को 64981 वोट मिले थे और उन्होंने लोजपा प्रत्याशी नीरज कुमार मंडल को 21229 वोटों से हराया था।

मुकेश के पिता सदानंद सिंह की गिनती बिहार कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में होती है। बिहार में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बावजूद हर बार वह अपनी सीट बचाने में कामयाब रहते हैं। वह बिहार सरकार में सिंचाई एवं उर्जा राज्यमंत्री रह चुके हैं। इसके अलावा 2000 से 2005 तक विधानसभा के अध्यक्ष भी रह चुके हैं। वह बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष, उपाध्यक्ष भी रहे हैं। 2011 से अब तक वह कांग्रेस विधायक दल के नेता हैं।

इस विधानसभा में कुल 3.23 लाख वोटर हैं। जिसमें 52.5 प्रतिशत पुरुष और 47.5 प्रतिशत महिला वोटर हैं। यहां पिछले विधानसभा चुनाव में कुल 57.4 प्रतिशत वोटिंग हई थी। 1957 के चुनाव में इस सीट पर रिकॉर्ड 81.3 प्रतिशत वोटिंग हुई थी। इसके साथ ही 2015 के विधानसभा चुनाव में महिलाओं का वोटिंग प्रतिशत पुरुषों से ज्यादा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *