जिन्ना समर्थक को कांग्रेस ने दिया टिकट! महागठबंधन पर भड़के गिरिराज सिंह

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में जिन्ना के ‘जिन्न’ की एंट्री हो गई है। दरअसल, कांग्रेस ने दरभंगा की जाले विधानसभा सीट से मशकूर उस्मानी को अपना उम्मीदवार बनाया है। उस्मानी पर जिन्ना समर्थक होने का आरोप लगाकर बीजेपी और जेडीयू के नेता राजद और कांग्रेस पर निशाना साध रहे हैं। इस मामले में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के फायर ब्रांड नेता गिरिराज सिंह भी कूद पड़े हैं। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस और राजद को बताना चाहिए कि क्या वे जिन्ना के समर्थक हैं?

न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए गिरिराज सिंह ने कहा, ‘कांग्रेस और महागठबंधन के नेताओं को देश को जवाब देना होगा कि क्या जाले उम्मीदवार जिन्ना का समर्थन करते हैं? कांग्रेस और महागठबंधन को बताना होगा कि क्या वे भी जिन्ना का समर्थन करते हैं? क्या शरजील इमाम उनके स्टार प्रचारक होंगे?’

डॉ मशकूर उस्मानी मूल रूप से दरभंगा जिले के रहने वाले हैं। वह 2017 में अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से छात्रसंघ चुनाव जीते थे। इसके बाद वह चर्चा तब आए जब 2018 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्रसंघ के हॉल में मोहम्‍मद अली जिन्‍ना की तस्‍वीर पाई गई। भाजपा सांसद ने कुलपति को चिट्ठी लिखकर इस पर आपत्ति जताई थी। हिन्‍दू युवा वाहिनी ने तस्वीर हटाने की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया था। एएमयू में इसको लेकर जमकर हंगामा हुआ था। लाठीचार्ज भी करना पड़ा था। तब छात्रसंघ अध्यक्ष रहे उस्मानी ने बाद में कहा था कि वह जिन्ना की विचारधारा के खिलाफ हैं लेकिन जिन्ना देश के एक ऐतिहासिक तथ्य हैं।

उस्मानी के इसी बयान को लेकर उनपर जिन्ना समर्थक होने का आरोप लग रहा है। चुनावी मौसम में बीजेपी और जेडीयू इस मुद्दे को लेकर राजद व कांग्रेस पर हमलावर हो गई है।

बीजेपी नेता प्रेमरंजन पटेल ने कहा कि कांग्रेस का असली चरित्र सामने आ गया है। उसे देश की एकता और अखंडता से कभी मतलब नहीं रहा। देश के विभाजन के लिए जिम्‍मेदार जिन्‍ना को महिमामंडन करने वाले शख्‍स को टिकट देकर एक बार फिर उसने यही साबित किया है। जेडीयू के अजय आलोक ने कहा कि कांग्रेस और राजद ने अपने-अपने शासनकाल में बिहार को डुबोया है। मशकूर उस्मानी जैसे शख्‍स को टिकट दिए जाने से साफ दिख रहा है कि कांग्रेस किस विध्‍वंसकारी राजनीति की तरफ बढ़ रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.