• Sat. May 21st, 2022

जमुई: स्वतंत्रता सेनानी शिवेंद्र सिंह का निधन, 13 साल की उम्र में अंग्रेजों के खिलाफ फूंका था बिगुल

ByRajkumar Raju

Jan 24, 2022

दुर्बल काया देख सहसा किसी को यकीन नहीं होगा की ये वही शख्स हैं जिन्होंने 13 साल की उम्र में खुद को स्वतंत्रता संग्राम में झोंक दिया था और 14 साल की आयु में सलाखों के पीछे कैद कर दिए गए थे। उम्र कम थी लिहाजा अंग्रेजी बेंत की मार भी कम पड़ी और लंबी अवधि तक कारागार की सजा भुगतने की नौबत भी नहीं आई लेकिन नजरों के सामने उपेंद्र पाल, यमुना सिंह, रामगुलाम सिंह, बेनी सिंह, द्वारिका सिंह सरीखे अन्य स्वतंत्रता सेनानियों की पिटाई याद कर उनकी आंखें आज भी नम हो जाती है।

यह शख्सियत कोई और नहीं, दर्जनों महिलाओं के लिए स्वावलंबन की बुनियाद गढ़ने वाले सदर प्रखंड के प्रतापपुर गांव निवासी शिवेंद्र सिंह हैं। वे शहर के विकास समिति परिसर में 74 वें स्वाधीनता दिवस की पूर्व संध्या पर आंखों की मंद रोशनी की निगरानी में झंडोत्तोलन की तैयारी करा रहे होते हैं।

आवाज की खनक और शरीर की फुर्ती इस बात का आभास नहीं होने देती कि जीवन का 93 वसंत उन्होंने जनवरी माह में ही पूरा कर लिया है। बहरहाल 1942 से लेकर 15 अगस्त 1947 तक की दास्तान में गोते लगाते हुए जो कुछ उन्होंने कहा वह मुर्दों में भी राष्ट्रभक्ति की जान फूंक देने के लिए पर्याप्त था। इस दौरान उन्होंने दौलतपुर के बगीचा से लेकर खड़हुई बरियारपुर और गिद्धेश्वर की पहाड़ी तथा चंद्रशैली नदी की कछार पर अंग्रेज सिपाहियों के साथ लुकाछिपी का खेल सुनाते हुए कहा कि लोगों का अगाध प्रेम स्वतंत्रता की लड़ाई में संबल प्रदान करता रहा।

यहां यह भी बताना लाजिमी है कि इनके रगों में महान स्वतंत्रता सेनानी बाबू गिरधर नारायण सिंह का लहू दौड़ रहा है जिन्होंने 18 वर्ष की उम्र से ही अंग्रेजो के खिलाफ लड़ाई का बिगुल फूंका था और जीवन पर्यंत जेल और उनके बीच अटूट रिश्ता बना रहा।

शिवेंद्र सिंह की मानें तो राजनीतिक विकृति की बुनियाद तो आजादी के वक्त ही पड़ गई थी। उन्हें मलाल है कि स्वाबलंबन की जगह मुफ्तखोरी ने ले ली, लिहाजा देश में चरित्र निर्माण नहीं हो सका। उनकी नजर में देश, समाज तथा इंसान के लिए कट्टरपंथी विचारधारा और नक्सलवाद समान रुप से खतरनाक है। उनका स्पष्ट मानना है कि आग से आग नहीं बुझाई जा सकती है। एकल परिवार की ओर अग्रसर समाज से व्यथित स्वतंत्रता सेनानी इसे संक्रमण काल बताते हैं।

उन्होंने बेटों की मां बाप से बेवफाई का दौर शुरू हो जाने पर तंज कसा। बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ मुहिम को बल देते हुए कहते हैं कि बेटी को मेहमान न समझें, अब बेटे की भी हो जाती है रुखसत..। महात्मा गांधी और इतिहास की किताबों के बीच सहारे की आंखों से खोए रहने वाले शिवेंद्र बाबू की नजरों में प्रदेश सरकार ने कई सराहनीय कार्य किए हैं लेकिन भ्रष्टाचार के खिलाफ और स्वरोजगार के लिए अब भी बहुत कुछ करना बाकी है।

उनका मानना है कि भ्रष्टाचार के कारण ही स्वावलंबन की नींव कमजोर हुई और लोग आजाद देश में गुलामी की जंजीर से बंधे होने की अनुभूति के बीच जी रहे हैं।

95 वर्ष की आयु में हुआ निधन

जमुई सदर प्रखंड के प्रतापपुर निवासी स्वतंत्रता सेनानी शिवेंद्र शरण सिंह का निधन 95 वर्ष की आयु में रविवार को देर संध्या नगर क्षेत्र के पाटलिपुत्र मोहल्ला स्थित उनके आवास पर हो गया। उनके निधन की खबर सुनकर लोगों में काफी मायूसी छा गई और लोग उनके अंतिम दर्शन को उम्र पड़े ।

शिवेंद्र सिंह ने आजादी की लड़ाई में बढ़-चढ़कर योगदान दिया था और कई बार कचहरी जलाने के आरोप में उन्हें जेल की हवा भी खानी पड़ी थी। उनके निधन पर शोक व्यक्त करने वालों में समाजसेवी भवानंद, डॉक्टर एसएन झा, पूर्व लोक अभियोजक शिशिर दुबे, महेश्वर रावत, महावीर पंडित, किशोरी राम, नीलम सिंह, कुमुद देवी, मंजू सिन्हा, रोबिन सिन्हा आदि शामिल है।