कोरोना से लड़ने के लिए चलंत अस्पताल का काम करेगी देश की रेलगाड़ियां

भारतीय रेल नए अवतार में आम जनता की मदद के लिए खड़ी है । वह कोरोना के मद्देनजर पटरियों पर आइसोलेशन वार्ड वाली ट्रेन चलाएगी । अस्पताल रूपी इन ट्रेनों में जीवनरक्षक दवाएं , चिकित्सा उपकरण , जांच मशीनें और पैरा मेडिकल स्टाफ तैनात रहेगा । राज्य सरकार की मांग पर अस्पताल ट्रेन चंद घंटों में आपके शहर में पहुंच जाएंगी । रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सभी रेलवे के 17 जोन को नॉन एसी ट्रेन ( एलएचबी ) को आइसोलेशन वार्ड में तब्दील करने के निर्देश दिए गए हैं । प्रत्येक जोन कोएक सप्ताह में कम से कम 10 ट्रेन को अस्पताल की शक्ल देने का लक्ष्य दिया गया है । यानी एक हफ्ते में 170 अस्पताल ट्रेन तैयार हो जाएंगे । डेढ़ लाख बेड हो सकते हैं तैयारः रेलवे 20 हजारकोच से डेढ़ लाख से अधिक बेड तैयार कर सकता है । एसी कोच मिलाकर इतने ही बेड और तैयार करना संभव होगा । अस्पताल ट्रेन के प्रत्येक कोच में 10 कूपे ( चार बर्थ मिलाकर ) होते हैं , इसमें तीन कूपे पैरा मेडिकल स्टाफ , नर्स व मेडिसिन रखने के लिए होंगे । अस्पताल ट्रेन में कोरोना के सात मरीजों के इलाज की सुविधा होगी । कोच के टॉयलेट – बाथरूम में भी बदलाव किया गया है । इससे नहाना आसान होगा ।

Leave a Reply