दुर्गाष्टमी आज, कल नवमी फिर विजयादशमी पर होगा रावण दहन, जानिए शुभ मुहूर्त

 

आज शारदीय नवरात्रि की दुर्गाष्टमी है। 24 अक्तूबर, शनिवार को नवरात्रि के आठवें दिन माता दुर्गा के नौ रूपों में से आठवें स्वरूप मां महागौरी की पूजा-आराधना की जा रही है। नवरात्रि के नौ दिनों तक माता दुर्गा के नौ रूपों की विशेष रूप से आराधना की जाती है। नवरात्रि के अष्टमी और नवमी तिथि पर मां दुर्गा की पूजा की विशेष महत्व होता है।

नवरात्रि के अष्टमी और नवमी तिथि पर देवी दुर्गा की आराधना के बाद माता के स्वरूप में कन्याओं का पूजन किया जाता है। इस बार अष्टमी और नवमी तिथि एक ही दिन पड़ने के कारण कन्या पूजन का आयोजन एक दिन किया जा रहा है। हालांकि कई जगहों पर 25 अक्तूबर को भी कन्या पूजन किया जाएगा।

शारदीय नवरात्रि महाअष्टमी तिथि और पूजा शुभ मुहूर्त
23 अक्तूबर को अष्टमी तिथि सुबह 6 बजकर 58 मिनट से आरंभ होगी।

24 अक्तूबर को अष्टमी तिथि सुबह 6 बजकर 58 मिनट को समाप्त होगी।

शारदीय नवरात्रि नवमी तिथि और पूजा शुभ मुहूर्त
24 अक्तूबर को नवमी तिथि सुबह 6 बजकर 58 से आरंभ होगी।
25 अक्तूबर को नवमी तिथि 7 बजकर 42 मिनट पर समाप्त होगी।
इस बार शारदीय नवरात्रि पर अष्टमी का व्रत 24 अक्तूबर दिन शनिवार को रखना सही होगा।

विजयदशमी शुभ मुहूर्त 2020 dussehra 2020 festival in india
दशहरा पर्व अश्विन माह के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को अपराह्न काल में मनाया जाता है।
विजय मुहूर्त- 13:57 मिनट से 14:41 मिनट तक
अपराह्न मुहूर्त- 13:12:15 से 15:26: 49 तक

नवरात्रि अष्टमी तिथि – मां महागौरी  Navratri 2020 Durga Ashtami Maa Mahagauri
आज दुर्गा अष्टमी है। इस दिन मां दुर्गा के आठवें स्वरूप की पूजा आराधना की जाती है।  नवदुर्गा के आठवें स्वरूप मां महागौरी का रंग गोरा हैं, इसलिए इनका नाम महागौरी पड़ा हैं। माता की पूजा अर्चना करने से समस्त पापों का नाश हो जाता है। दुख, दरिद्रता और कष्ट भी मिट जाते है। मां की पूजा से कुंडली दोष भी दूर हो जाता है।

शादी विवाह में आई हुई परेशानियों को दूर करने के लिए महागौरी का पूजन किया जाता है, क्योंकि महागौरी का पूजन करने से कुंडली का कमजोर शुक्र भी मजबूत हो जाता है और दांपत्य जीवन सुखद होता है साथ ही पारिवारिक कलह क्लेश भी मिट जाते है।

नवरात्रि नवमी तिथि- मां सिद्धिदात्री
नवरात्रि के नवें दिन मां के नवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री का दिन होता है। कार्यों की सिद्धि दिलाने वाली मां श्री सिद्धिदात्री की आराधना 25 अक्टूबर को होगी। नवरात्रि में इन्हीं नौ दुर्गाओं की पूजा-आराधना करके भक्त अपने सभी मनोरथ पूर्ण कर लेते हैं। इनमें नवें दिन माँ सिद्धिदात्री की आराधाना की जाती है इनके आशीर्वाद के बगैर व्यक्ति की मनोकामना पूर्ण नही होती।

विजयदशमी 2020 Vijayadashami 2020
हर वर्ष हिंदू पंचांग के अनुसार विजयदशमी का त्योहार आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि पर मनाया जाता है। दशहरा बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। दशमी तिथि पर भगवान राम ने रावण का वध किया था। इसके अलावा इसी तिथि पर मां दुर्गा ने महिषासुर का संहार किया था। इस बार दशहरा 25 अक्तूबर को मनाया जा रहा है।

Leave a Reply