• Fri. Jul 30th, 2021

The Voice of Bihar-VOB

खबर वही जो है सही

हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट मामले में बिहार सरकार अलर्ट, सभी जिलों के DM और SP को किया सावधान

ByRajkumar Raju

Jul 22, 2021

बिहार में  हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट के धंधे का खुलासा होने के बाद सरकार अलर्ट हो गई है. राज्य के नए-नए इलाकों में आर्केस्ट्रा की आड़ में नाबालिग लड़कियों को जिस्मफरोशी के दलदल में धकेलने की खबर सामने आने के बाद प्रशासनिक महकमे में हड़कंप मच गया है.  मुख्य सचिव स्तर से सभी जिलों के डीएम और एसपी को एसओपी भेजा गया है.

राज्य सरकार ने सभी जिलों के डीएम और एसपी को आर्केस्ट्रा के नाम पर लड़कियों की मानव तस्करी करने वाले दलालों की पहचान कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश दिया है. मामले का पर्दाफाश होने के बाद कुछ संवेदनशील जिलों में डीएम स्तर से कमेटी गठित की गई है. सूत्रों की ओर से यह इनपुट मिला है कि कोरोना काल में आर्थिक तंगी झेल रही लड़कियों की मज़बूरी का फायदा उठाकर उन्हें आर्केस्ट्रा में शामिल किया जा रहा है और फिर उन्हें गलत धंधे में उतरने का दबाव बनाया जा रहा है.

इस घटना के बाबत समाज कल्याण निदेशक राजकुमार ने बताया कि सभी जिलों के डीएम को पत्र लिखने के साथ-साथ सभी संस्थाओं को ऐसी घटनाओं पर अलर्ट रहकर स्थानीय पुलिस को सूचना देने को कहा गया है. गौरतलब हो कि इससे पहले बीते 3 जुलाई को ही समाजसेवी शाहीना परवीन ने मुख्य सचिव को पत्र लिखा था और आर्केस्ट्रा की आड़ में चल रहे देहव्यापार के धंधे के बारे में सचेत किया था.

गौरतलब हो कि बीते दिन पुलिस ने जिस्मफरोशी के धंधे में शामिल कई लोगों को पकड़ा, जो बिहार से लेकर मुंबई तक बड़े-बड़े सफेदपोश लोगों के पास लड़कियों की सप्लाई करते हैं. गिरफ्तार लोगों में एक महिला दलाल भी शामिल है, जो इस धंधे में ‘बुआ’ नाम से चर्चित है. यही महिला अपने पार्टनर और बाउंसर के साथ मिलकर लड़कियों को जिस्मफरोशी के दलदल में उतारती थी.

वैसे तो मामला बिहार के बिक्रमगंज का है लेकिन इसका नेटवर्क मुजफ्फरपुर, रक्सौल से लेकर नेपाल और मुंबई तक फैला है. पकड़ी गई महिला दलाल रेखा देवी लड़कियों को अच्छी कंपनी में नौकरी और पढ़ाई का झांसा देकर आर्केस्ट्रा में शामिल करती थी. लड़कियों को पहले वह मुम्बई स्थित अपने घर में रखती थी. वहां से लड़कियों को मुम्बई के डांस बार में सप्लाई करती थी.

बताया जा रहा है कि आर्केस्ट्रा की आड़ में मासूम लड़कियों को जिस्मफरोधी के धंधे में धकेला जाता था. दरअसल इस पूरे मामले का खुलासा तब हुआ जब एक मासूम बच्ची किसी तरह इन दरिंदों की चंगुल से आजाद होकर पटना पहुंची. पटना पहुंचते ही 14 साल की बच्ची ने बाल कल्याण समिति के सामने लाया गया. बच्ची के बयान पर बाल कल्याण समिति ने एसएसपी पटना को पत्र लिखकर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया.

मानव तस्करी और सेक्स रैकेट से जुड़े इतने बड़े मामले की गंभीरता को देखते हुए कमजोर वर्ग के एडीजी अनिल यादव ने त्वरित रेस्क्यू टीम गठित कर रोहतास भेजा. पुलिस जब तक घटना स्थल पर पहुंचती, किशोरी की छोटी बहन 12 साल की किशोरी की हत्या कर दी गई थी. वहां से पुलिस ने 9 लड़कियों को बरामद किया. इनमें 6 नाबालिग हैं. छुड़ाई गई लड़कियां मुजफ्फरपुर, रोहतास और रक्सौल की हैं. इन्हें फिलहाल आश्रय गृह में रखा गया है.

इन लड़कियों को आजाद करने के साथ-साथ पुलिस ने महिला दलाल रेखा देवी के साथ शंकर नट, गोपाल नट, विकास और सोनू को गिरफ्तार किया है.  पुलिस ने विक्रमगंज थाने में पॉक्सो, हत्या, मानव तस्करी के साथ अपहरण की धाराओं में प्राथमिकी दर्ज कराई है. पुलिस ने घटना स्थल से 1 लाख 71 हजार रुपये बरामद किये हैं. यही नहीं, गर्भ निरोधक के साथ गर्भपात कराने वाली कई तरह की दवाएं भी बरामद की हैं.

कमजोर वर्ग की एसपी बीना कुमारी ने बताया कि 19 जुलाई को बाल कल्याण समिति से सूचना मिली थी कि रेखा देवी नाम की महिला आर्केस्ट्रा की आड़ में नाबालिग लड़कियों से देह व्यापार कराती है. सूचना के आधार पर 19 जुलाई को रातभर छापेमारी अभियान चलाया गया. रेस्क्यू टीम गठित कर लड़कियों को मुक्त कराया गया है. अन्य आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी की जा रही है.

इस घटना के बाबत जानकारी मिली है कि पकड़ी गई महिला दलाल रेखा देवी बिक्रमगंज स्थित अपने घर पर लगभग 10 बाउंसर रखती थी. रेस्क्यू की गई किशोरी ने बताया कि रेखा देवी देह व्यापार से मना करने पर बुरी तरह मारपीट करती थी. छुड़ाई गई सरगना को लड़कियां बुआ के नाम से बुलाती थी. उसके संबंध कई सफेदपोश से भी हैं. बताया जा रहा है कि कई सफेदपोश लोगों के पास भी लड़कियों की सप्लाई की जाती थी.