रिपब्लिक से हर लेनदेन की जानकारी मांगे जाने पर बोले BJP नेता- ‘परमबीर अपना चैनल खोलना चाहते हैं’

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने मुंबई पुलिस द्वारा रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क से बीते चार साल में किए गए हर एक लेनदेन की डिटेल्स मांगने पर प्रतिक्रिया जारी की है। मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने नेटवर्क से टॉयलेट पेपर, टिश्यू पेपर से लेकर एयर कंडीशनिंग उपकरण, फर्नीचर, मेकअप, सूट और हेयर ब्रश तक के लिए किए गए भुगतान की जानकारी मांगी है।

मुंबई पुलिस के इस कदम पर पार्टी प्रवक्ता टॉम वडक्कन ने कहा कि ‘परमबीर सिंह ये डिटेल्स इसलिए मांग रहे हैं क्योंकि वह रिटायरमेंट के बाद एक चैनल खोलना चाहते हैं।’ साथ ही राजनेता ने कमिश्नर पर मीडिया को ‘परेशान’ करने का आरोप लगाते हुए फटकार भी लगाई।

उनके मुताबिक, “रिटायरमेंट के बाद परमबीर को पीएफ मिलेगा और फिर वह एक चैनल खोलेंगे इसलिए वह इन सब खर्चों को जानना चाहते हैं। वह सिर्फ लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को परेशान करने की कोशिश कर रहे हैं।”

वही बीजेपी प्रवक्ता इंदरजीत समयाल ने भी मुंबई पुलिस की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा- “मुंबई पुलिस कमिश्नर ने सारी हदें पार कर दी हैं। वे जानना चाहते हैं कि रिपब्लिक अपने माइक और अपने कर्मचारियों की पेमेंट कैसे कर रहा है। वह अपने व्यक्तिगत प्रतिशोध के लिए काम कर रहे हैं। सरकार को जांच करनी चाहिए और उन्हें उनके पद से हटा देना चाहिए।”

बता दें कि मुंबई पुलिस ने अब रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क को बीते चार साल में किए गए हर एक लेनदेन की डिटेल्स देने के लिए सेक्शन 91 के तहत नोटिस जारी किया है। चौकानें वाली बात यह है कि मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक को इन सभी डिटेल्स को केवल 12 घंटों में प्रस्तुत करने के लिए कहा है।

परमबीर ने मांगा इन खर्चों का ब्यौरा- 

मशीनों का ब्यौरा

स्टेशनरी खरीदारी का ब्यौरा

दफ्तर की पेंटिंग का ब्यौरा

हाउस कीपिंग स्टाफ की सैलरी

फर्नीचर खरीदने का ब्यौरा

चाय-कॉफी वेंडिंग मशीन का खर्चा

माली को पेमेंट का ब्यौरा

एसी मशीन की कीमत का ब्यौरा

कार्पेट, कुर्सी के लेन-देन का हिसाब मांगा

टॉयलेट पेपर, टिश्यू पेपर का ब्यौरा

A-4 पेपर , मेकअप, कपड़ों पर खर्च का ब्यौरा मांगा

हेयर ब्रश तक का हिसाब मांगा

रिपब्लिक के खिलाफ साजिश

मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक के पत्रकार प्रदीप भंडारी, कार्यकारी संपादक निरंजन नारायणस्वामी, एक्जीक्यूटिव एडिटर अभिषेक कपूर, रिपब्लिक नेटवर्क के सीईओ, सीएफओ और शीर्ष वितरण अधिकारियों से अबतक 100 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की है। इसके अलावा, परमबीर सिंह ने रिपब्लिक की जांच के लिए इकोनॉमिक्स ऑफेंस विंग में लाया है, जो कि धारा 91 के तहत दी गई नोटिस से भी स्पष्ट है।

बता दें, रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क दबाव की रणनीति के खिलाफ खड़ा रहेगा। रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क खबर, सच्चाई और राष्ट्र को पहले रखना जारी रखेगा। हम जनमत और कानून की अदालतों में हर मजबूत रणनीति से लड़ेंगे।

Leave a Reply