अर्नब गोस्वामी, ठाकरे से सवाल पूछते हैं तो इसमें गलत क्या है?: भाजपा

भाजपा नेता और पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने ‘ठाकरे परिवार’ पर निशाना साधा है। पूर्व सांसद ने महाराष्ट्र सरकार द्वारा एक बार फिर रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क को रिपोर्टिंग से रोके जाने का कड़ा विरोध किया। उन्होंने कहा कि ‘रिपब्लिक’ द्वारा सुशांत सिंह राजपूत और दिशा सालियान की मौत के मामले में जो न्याय और सच्चाई की लड़ाई जारी है, उस आवाज़ को दबाने के लिए सरकार ‘बेशर्म’ प्रयास कर रही है।

भाजपा नेता का ये बयान उस समय आया जब गुरुवार को महाराष्ट्र विधानसभा द्वारा रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को विशेषाधिकार के उल्लंघन पर 60 पन्नों का पत्र भेजा गया है।

इस दौरान पूर्व सांसद ने सुशांत सिंह राजपूत मामले में न्याय को सुनिश्चित करने के लिए लगातार काम कर रहे रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क का समर्थन किया। उन्होंने महाराष्ट्र की शिवसेना नेतृत्व वाली एमवीए सरकार पर आरोप लगाया कि वह ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ को रिपोर्टिंग करने से रोकने के लिए सरकारी मशीनरी का ग़लत इस्तेमाल कर रही है।

 

किरीट सोमैया का ठाकरे परिवार पर हमला

किरीट सोमैया ने एक वीडियो संदेश जारी कर ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के रिपोर्टिंग अधिकार का समर्थन किया। उन्होंने कहा “रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी, सुशांत सिंह राजपूत और उनके परिवार के लिए न्याय की लड़ाई लड़ रहे हैं। अगर वे ठाकरे सरकार या परिवार से सवाल पूछते हैं, तो इसमें गलत क्या है?  गणतंत्र के खिलाफ राज्य मशीनरी का उपयोग करने के लिए ठाकरे परिवार का डर है? ठाकरे परिवार का भय, राज्य-मशीनरी को ‘रिपब्लिक’ के खिलाफ प्रयाेग करने का दबाव बना रहा है, जिसका कि भाजपा विरोध करती है।”

राम कदम ने भी एमवीए सरकार पर साधा निशाना

वहीं इस मसले पर बीजेपी विधायक राम कदम ने भी महाविकास अघाड़ी सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने एक बाद एक लगाताक दो ट्वीट किए और कहा कि ‘पत्रकार यदि सवाल पूछता है तो उसे विशेषाधिकार हनन की धमकी दी जाती है। वाह..यह तो आपातकाल से भी भयंकर समय थोप रहे हो। याद रखना देश हित की बात करने वाले हर पत्रकार के साथ सारा देश खड़ा है।’

वहीं जम्मू और कश्मीर के पूर्व उपमुख्यमंत्री कविंदर गुप्ता ने भी रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क पर महाराष्ट्र सरकार की कार्रवाई को गलत बताया और कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता पर कभी भी अंकुश नहीं लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘आज बालासाहेब ठाकरे की आत्मा रो रही होगी।’

 

अर्नब गोस्वामी का बयान

महाराष्ट्र सरकार द्वारा भेजे गए पत्र पर प्रतिक्रिया देते हुए रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्नब गोस्वामी ने कहा

”मैं भारत के लोगों से बात करना चाहता हूं। महाराष्ट्र की विधानसभा ने मुझे 60 पन्नों की एक चिट्ठी भेजी है। मुझसे पूछा गया है कि मैं महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री से सवाल क्यों कर रहा हूं। मुझे जेल भेजने और विशेषाधिकार हनन की धमकी दी गई है। मैंने इसके खिलाफ लड़ने का फैसला किया है। मैं उद्धव ठाकरे और दूसरे चुने हुए प्रतिनिधियों से सवाल पूछता रहूंगा और उनसे लड़ता रहूंगा। मैं उनसे कोर्ट में लड़ूंगा, लेकिन ऐसी अलोकतांत्रिक परंपराओं से हार नहीं मानूंगा। संविधान पर किसी का विशेषाधिकार नहीं है। इस पर देश के हर नागरिक का अधिकार है। मैं इस अधिकार का प्रयोग जारी रखूंगा और अपने सवाल पूछता रहूंगा। मुझसे रिपोर्टिंग का अधिकार कोई नहीं छीन सकता।”

गौरतलब है कि इससे पहले भी एक खोजी कहानी की रिपोर्टिंग करने गए रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के पत्रकारों को महाराष्ट्र पुलिस ने जबरन गिरफ्तार कर लिया था। वहीं इसके बाद रिपब्लिक मीडिया नेवर्क ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग से इसकी शिकायत की थी।

Leave a Reply