• Mon. Jun 21st, 2021

भागलपुर के पल्स अस्पताल पर फिर से गंभीर आरोप, दो लाख लेकर लगा दी खराब पेशमेकर,परिजनों ने काटा बवाल

भागलपुर के बरारी थाना क्षेत्र स्थित पल्स अस्पताल (Pulse hospital Bhagalpur) पर एक बार फिर से अस्पताल में भर्ती मरीज के परिजनों ने गंभीर आरोप लगाया है। दरअसल जिले के अलीगंज के महेशपुर निवासी गणेश प्रसाद साह को दिल की बीमारी है। इसको लेकर 19 मार्च 2021 को उन्हें पल्स अस्पताल (Pulse Hospital Bhagalpur) में भर्ती कराया गया था। जहां उनको पेसमेकर (Pace Maker) लगाया गया। परिजनों के मुताबिक पेसमेकर लगाने में उन्होंने कुल दो लाख खर्च किए जिसमें से पेसमेकर समेत दवाइयों के भी खर्च थे। इसमें से 1 लाख 86 हजार रुपए ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से भी डॉक्टर को भेजा गया है। जिसके बिल भी परिजनों ने हमें दिए।

इस बीच 7 जून को मरीज की ज्यादा तबीयत खराब हो गई और सीने में दर्द शुरू हो गया। जब यहां भर्ती कराया गया तो बोला गया कि 25 हजार रुपये लगेंगे, लेकिन जब मरीज के परिजनों द्वारा रुपये देने में वक़्त लगने लगा तो डॉक्टर ने मरीज को डिस्चार्ज करने की बात कही।इसके बाद अस्पताल के सामने मरीज के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर धांधली का आरोप लगा जमकर बवाल काटा।

वहीं इस मामले में अस्पताल के डॉक्टर सुशील ठाकुर ने कहा कि मरीज के परिजनों के आरोप गलत है। डॉक्टर ने कहा कि उनके बजट से इंडियन पेसमेकर (Indian Pacemaker) लगाया गया फिर सोमवार को मरीज की तबीयत खराब हुई थी तो वह यहां लेकर आए हमने ऑब्जरवेशन के लिए आइसीयू में रख दिया। उन्होंने एक भी रुपया नहीं दिया है। मरीज स्वस्थ हैं उन्हें आज डिस्चार्ज किया जा रहा है।

डॉक्टर साहब ने कहा कि पेसमेकर की प्रोग्रामिंग के लिए हमारे पास सुविधा नहीं है लेकिन अस्पताल में घुसते ही बड़े से बोर्ड में लगा है यहां पेसमेकर लगाने की सुविधा है, लेकिन जब सुविधा नहीं है तो रुपया लेकर मरीजों के साथ खिलवाड़ क्यों. एक पेसमेकर 10 से 15 वर्ष चलता है तो फिर 3 महीने में ही उसमें समस्या कैसे आ गई। हालांकि इस मामले में मरीज के परिजनों ने अस्पताल प्रबंधन पर एफ आई आर दर्ज करने की बात कही है