• Mon. Jun 21st, 2021

बिहार के इंजीनियरिंग कॉलेज में लड़कियों को इसी सत्र से 33% कोटा

ByRajkumar Raju

Jun 11, 2021

राज्य के इंजीनियरिंग कालेजों में छात्राओं को 33 प्रतिशत आरक्षण का लाभ इसी सत्र 2021 से मिलेगा। इसके लिए प्रस्ताव तैयार करने में विज्ञान एवं प्रावेधिकी विभाग जुट गया है। जल्द ही विधि विभाग से इस प्रस्ताव पर स्वीकृति लेकर इसे कैबिनेट में भेजा जाएगा। कैबिनेट की सहमति मिलने के बाद राज्य में इसे लागू कर दिया जाएगा। मालूम हो कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दो जून को विभागीय समीक्षा के दौरान लड़कियों के लिए इंजीनियरिंग और मेडिकल कालेजों में एक तिहाई सीटें आरक्षित किये जाने की घोषणा की थी। इसको लेकर उन्होंने विभागीय पदाधिकारियों को निर्देश भी जारी किया था।

इसके तुरंत बाद विज्ञान एवं प्रावैधिकी विभाग ने इस संबंध में कार्रवाइ शुरू कर दी, जो अंतिम चरण में है। मिली जानकारी के अनुसार हर वर्ग के लिए आरक्षित सीटों में से 33 प्रतिशत आरक्षण लड़कियों के लिए रहेगा। इसी अनुरूप विभाग द्वारा प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। राज्य में अभी 38 राज्य सरकार के इंजीनियरिंग कॉलेज हैं, जिनमें 9975 सीटें हैं। इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए अलग विश्वविद्यालय + राज्य के सभी इंजीनियरिंग कॉलेजों के लिए अब जल्द ही अलग विश्वविद्यालय भी होगा। इसके लिए विधानमंडल के अगले सत्र में बिहार इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय विधेयक 2021 पेश किया जाएगा।

इसके लिए प्रस्ताव भी लगभग तैयार कर लिया गया है। वर्तमान में ये सभी इंजीनियिरंग कॉलेज आर्यभट्ट ज्ञान विश्वविद्यालय के अंतर्गत आते हैं। आर्यभटूट ज्ञान विवि के अंतर्गत और भी कई तरह के तकनीकी कॉलेज आते हैं। इसको देखते हुए राज्य सरकार ने इंजीनियरिंग कालेजों के लिए अलग विवि की स्थापना करने जा रही है। तकि इस विश्वविद्यालय का पूरा फोकस इंजीनियरिंग कालेजों पर रहे। मुख्यमंत्री के सात निश्चय 2 में भी इस विवि की बात है। इस विश्वविद्यालय के अधीन सरकारी और निजी दोनों तरह के इंजीनियरिंग कालेज आएंगे।