बड़ी लापरवाही: कोरोना पॉजिटिव मरीजों के साथ 7 संदिग्धों को मुंगेर से लाया गया भागलपुर, संक्रमण का खतरा बढ़ा

जहां एक ओर पूरा देश कोरोना वायरस से सहमा हुआ है और घरों में बैठकर इसे भगाने की कोशिश में लगा है वहीं मुंगेर सिविल सर्जन डॉ . पुरुषोत्तम कुमार की बड़ी लापरवाही सामने आई है । उन्होंने गुरुवार को एक ही एंबुलेंस में मुंगेर से दो कोरोना पॉजिटिव मरीजों के साथ सात और संदिग्धों को मायागंज अस्पताल भेज दिया । पहले तो अस्पताल प्रबंधन को यह पता हीनहीं चला कि उसके साथ ही सात संदिग्ध भी हैं । इसलिए उनलोगों को वार्ड के बाहर ही रोक दिया गया । बाद में एंबुलेंस चालक ने ही बताया कि ये सात लोग भी संदिग्ध हैं और यहां भर्ती होने के लिए आए हैं । इसके बाद वे लोग इमरजेंसी वार्ड में गए और वहां से सभी को आइसोलेशन वार्ड लाया गया । सिविल सर्जन की लापरवाही की जानकारी जब राज्य सरकार को मिली तो सरकार ने डायरेक्टर इन चीफ हेल्थ डॉ . नवीन चंद्र प्रसाद को मुंगेर भेज करमामले को देखने का निर्देश दिया । उन्होंने कहा कि शनिवार को 70 और संदिग्धों का सैंपल लेने के लिए भागलपुर से एक टीम मुंगेर जाएगी । उधर , इस लापरवाही पर जब मुंगेर के सिविल सर्जन से बात की गई तो उन्होंने कोई भी संतोषजनक जवाब नहीं दिया और पल्ला झाड़ लिया । सिर्फ यही कहा कि अभी मैं पीड़ित के गांव में रैपिड एक्शन फोर्स के साथ हूं । यहां कोई भी घर से बाहर नहीं निकल रहा है ।

Leave a Reply