फ्रांस से भारत को मिला पहला राफेल विमान, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने की शस्त्र पूजा

 

 

बरदो (फ्रांस) : भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को फ्रांस की दसॉल्ट एविएशन कंपनी से पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त किया. विजयादशमी और वायुसेना दिवस के मौके पर रक्षा मंत्री ने फ्रांस के बरदो दसॉल्ट एविएशन कंपनी पहुंचकर इसे प्राप्त किया. इससे पहले रक्षा मंत्री शस्त्र पूजन भी किया.

 

माैके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए रक्षा मंत्री ने सबसे पहले फ्रांस के स्वर्गीय पूर्व राष्ट्रपति जैक्स शिराक को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि इस दुख की घड़ी में भारत फ्रांस के साथ खड़ा है. उन्होंने कहा, आज का दिन भारतीय वायुसेना के लिए ऐतिहासिक है. आज 87वां वायु सेना दिवस भी है और आज के दिन भारत को पहला राफेल विमान मिल रहा है. उन्होंने कहा, मुझे बताया गया कि राफेल का मतलब हिंदी में होता है ‘आंधी’. मुझे उम्मीद है कि यह विमान अपने नाम पर खरा उतरेगा. भारतीय वायुसेना दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना है. इस विमान से हमारी क्षमताओं में बढ़ोतरी होगी. इसके बाद रक्षा मंत्री राफेल विमान में यात्रा करेंगे.

 

उन्होंने कहा, आज का दिन इंडो-फ्रेंच स्ट्रैटिजिक पार्टनरशिप के लिए हम है. साथ ही द्विपक्षीय रक्षा समझौतों के मसले में भी यह दिन काफी अहम है. रक्षा मंत्री ने कहा, आज भारत में विजयदशमी का पर्व है. आज का दिन सांकेतिक रूप से काफी अहम है. हमारी राफेल मॉनिटरिंग टीम अगस्त से ही फ्रांस में मौजूद है. हमें खुशी है कि राफेल विमान की डिलिवरी सही समय से हो रही है. उन्होंने कहा, मैं आप सभी का आभार व्यक्त करना चाहता हूं जिन्होंने मुझे यहां आमंत्रित किया. फ्रांस और भारत में काफी समानताएं हैं. राफेल फ्रांस की तकनीक का बेहतरीन नमूना है.

 

इससे पहले रक्षा मंत्री फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों के साथ विभिन्न मुद्दों पर बातचीत की और कहा उनकी यात्रा का मकसद भारत और फ्रांस के बीच ‘रणनीतिक साझेदारी’ को बढ़ाना है. राजनाथ सिंह ने एक ट्वीट में कहा, 87वें वायु सेना दिवस के मौके पर वायु सेना के सभी कर्मियों और उनके परिवारों को बधाई. इसमें उन्होंने कहा, भारतीय वायुसेना अभूतपूर्व पराक्रम, धैर्य, दृढ़ निश्चय तथा राष्ट्र की उत्तम सेवा का चमकता उदाहरण है. नीली वार्दी वाले ये कर्मी आसमान छूने में सक्षम हैं.

 

 

 

 

Leave a Reply