अंतरराष्ट्रीय खेलों में गोल्ड जीतने वाली खिलाड़ी, आज ईंट-बालू ढोने को मजबूर

 

झारखंड के लिए राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में गोल्ड समेत कई मेडल जीतने वाली लॉन बॉल खिलाड़ी सरिता तिर्की इन दिनों ईट व बालू ढोने के लिए मजबूर हैं. आर्थिक तंगी की वजह से रोजाना काम करने के लिए सरिता मजबूर हैं. सरिता की मानें तो परिवार चलाने के लिए वह यह काम कर रही हैं

सरिता लॉकडाउन से पहले दाई का काम दूसरे के घरों में किया करती थीं, लेकिन कोरोना वायरस संक्रमण होने के बाद लोग अपने घर में काम करने आने से मना कर दिया. इसके बाद सरिता ने चाय और पकौड़े की दुकान भी खोली, लेकिन वह भी नहीं चल सका.

तेज आंधी ने उस दुकान को भी तोड़ दिया. इसके बाद सरिता के पास और कोई रास्ता ना बचा फिर वह लगातार रेजा का काम करने लगी. बेहद गरीब परिवार की सरिता तिर्की ने पहली बार 2007 में 33वें राष्ट्रीय खेलों में राज्य का प्रतिनिधित्व किया और ब्रॉन्ज हासिल किया.

झारखंड में 2011 में 34वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने बिहार की ओर से खेलते हुए गोल्ड जीता. इसके बाद फिर केरल में हुए 35वें राष्ट्रीय खेल में उन्होंने झारखंड के लिए खेला और गोल्ड हासिल किया.

इसके अलावा 2015 में हुए पांचवें नेशनल लॉन बॉल चैंपियनशिप में उन्होंने गोल्ड 2017 में छठी नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड 2019 में आयोजित सातवें नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड सिल्वर जीता. पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में हुए एशिया पेसिफिक चैंपियनशिप में सरिता को ब्रॉन्ज मेडल से संतोष करना पड़ा था.

दरअसल, सरिता को रहने के लिए अपना घर भी नहीं है. दूसरे के जमीन पर घर बना कर फिलहाल सरिता रह रही है. सरकार की ओर से मदद की उम्मीद है. उन्हें आर्थिक मदद और अधिक पढ़ी-लिखी नहीं होने की वजह से कोई भी नौकरी मिल जाए तो उसका जीवन बसर सही से चल जाएगा.

सरिता को संकल्प के आधार पर उन्हें 3 लाख 72000 मिलने हैं, लेकिन इसी संकल्प का हवाला देकर उनका नाम कैश अवार्ड और छात्रवृत्ति की सूची में शामिल नहीं किया गया है.

सरिता ने बताया कि पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में हुए एशिया पैसिफिक चैंपियनशिप में भाग लेने जाने के लिए उनके पास पैसे नहीं थे. तब उन्होंने साथी खिलाड़ियों और परिचितों से डेढ़ लाख रुपए उधार लिया है. उन्हें उम्मीद थी कि खेल विभाग की ओर से अगर पैसे मिल जाते तो अवार्ड और छात्रवृत्ति से उधार लिए पैसे वापस कर देतीं, लेकिन ऐसा नहीं होने से मानसिक रूप से काफी परेशान रह रही हैं.

Leave a Reply