सेक्स रैकेट : भोजपुर के एक विधायक के पास जाती थी अनिता, दिन में 1500 व रात में रुकने के लिए मिलते थे रूपये 6000

 

पुलिस ने अनिता व संजीत को किया था गिरफ्तार

 

आरा : पटना में सेक्स रैकेट चलाने के मामले में पकड़ी गयी भोजपुर जिले की एक महिला ने पुलिस के समक्ष बयान देकर खलबली मचा दी है. उसने भोजपुर जिले के एक विधायक से संबंध होने की बात बतायी है. वह अक्सर विधायक के पास जाती थी. उसके बयान के बाद भोजपुर जिले की राजनीति में भूचाल आ गया है.

 

सोमवार को दिन भर सोशल मीडिया पर यह खबर चलती रही, जिसमें भोजपुर जिले में एक विधायक का नाम भी सामने आ रहा है. पुलिस पूरे मामले की गहराई से छानबीन कर रही है.

 

उधर जिले में उस विधायक के नाम को लेकर कयास लगाये जा रहे हैं. पुलिस सूत्रों के अनुसार नाबालिग बच्ची को लेकर भोजपुर पुलिस विधायक के फ्लैट का सत्यापन करा सकती है. हालांकि, इस मामले में पुलिस के बड़े अधिकारी कुछ भी कहने से परहेज कर रहे हैं. सेक्स रैकेट के मामले में भोजपुर पुलिस के हत्थे चढ़ी संदेश थाना क्षेत्र के मनियक्ष गांव निवासी संजय राम की पत्नी अनिता देवी ने पुलिस के समक्ष बताया कि वह पटना में संजय पासवान उर्फ पंडित उर्फ जीजा के कहने पर लड़कियों को गलत काम के लिए भेजता था. साथ ही उससे भी देह व्यापार का धंधा करवाया जाता था.

 

इस सेक्स रैकेट के धंधे में लिप्त सभी लड़कियों को पटना में रामलखन पथ स्थित भोजपुर कॉलोनी में रखा जाता था. वहीं से संजय पासवान के कहने पर लड़कियों को सफेदपोशों के पास भेजा जाता था. अनिता देवी ने बताया कि एक माह के भीतर बच्ची को आरा के एक इंजीनियर के पास और विधायक के फ्लैट पर संजय के कहने पर भेजी थी. इसके बाद पुलिस द्वारा विधायक की संलिप्तता की जांच की जा रही है.

 

लाली ने अनिता से कराया था नाबालिग बच्ची का संपर्क

 

पुलिस सूत्रों के अनुसार, नाबालिग बच्ची ने अपने दिये गये बयान में बताया कि एक माह पहले नगर थाना क्षेत्र के एक मुहल्ले के रहने वाली लाली नाम की लड़की ने नाबालिग बच्ची को पटना अनिता देवी के पास पहुंचायी थी. लाली अनिता के साथ मिलकर लड़की को लेकर लखनऊ भी ले गयी थी, जहां उसके साथ गलत काम किया गया था. पुलिस लाली को ढूढ़ने में जुटी हुई है. साथ ही इस धंधे में लिप्त अन्य लोगों की तालाश भी जारी है.

 

लड़की ने पुलिस के सामने सुनायी आपबीती

 

भोजपुर की नाबालिग बच्ची पटना से भागकर अपने घर पहुंची. इसके बाद परिजनों द्वारा नगर थाने में मामला दर्ज कराया गया. नाबालिग बच्ची के भाई द्वारा दिये गये आवेदन में अनिता देवी और पटना के संजीत को नामजद अभियुक्त बनाया गया. पटना से भागी नाबालिग लड़की ने पुलिस को सारी बात बतायी. इसके बाद एसपी सुशील कुमार ने मामले को गंभीरता से लेते हुए पटना पुलिस के सहयोग से पटना में छापेमारी कर दोनों को गिरफ्तार किया गया था.

 

पीड़िता, संचालिका व अनुसंधानकर्ता का कोर्ट में बयान दर्ज

 

इस मामले में कोर्ट में पीड़ित बच्ची, पकड़ी गयी संचालिका तथा अनुसंधानकर्ता का 164 का बयान दर्ज कराया गया. कोर्ट में मजिस्ट्रेट के सामने तीनों का बयान कलमबंद किया गया. पुलिस बयान के आधार पर आगे की कार्रवाई में जुट गयी. हालांकि बच्ची और संचालिका का बयान अलग- अलग है. पुलिस पूरे मामले की जांच गहरायी से कर रही है.

 

संदेश के मनियछ में हुई थी अनिता की शादी, 2013 में पति से हुआ था तलाक (बॉक्स के लिए) सेक्स रैकेट के मामले में पकड़ी गयी संचालिका अनिता देवी ने पुलिस के समक्ष अपने दिये गये बयान में बताया कि उसकी शादी 2003 में संदेश थाना क्षेत्र के मनियछ गांव निवासी संजय राम के साथ हुई थी. 2013 में उसका पति से तलाक हो गया. उसके बाद वह आरा के एक डॉक्टर के पास काम करने लगी. इसके बाद जिले के एक विधायक के पास काम करने लगी.

 

संजय उर्फ जीजा करवाता था गंदा काम

 

दिन में Rs 1500 व रात में रुकने के लिए मिलते थे Rs 6000

 

गिरफ्तार अनिता देवी ने पुलिस को बताया कि इस धंधे में लिप्त लड़कियों को दिन में जाने के लिए 1500 रुपये और रात में रुकने के लिए छह हजार रुपये मिलते थे. पकड़े गये संजीत संजय के कहने पर लड़कियों को उनके द्वारा बताये गये ठिकाने पर पहुंचाता था. इसके एवज में उसे कमिशन के रूप में एक हजार रुपये मिलते थे.

 

दोषी कितना भी रसूखदार क्यों न हो, नहीं बचेंगे : एसपी

 

इस संबंध में एसपी सुशील कुमार ने बताया कि इस मामले में पीड़िता के बयान के आधार पर जांच की जा रही है. इस मामले में जो भी दोषी पाये जायेंगे उनको बख्शा नही जायेगा. इस मामले में चाहे वह कोई भी हो कितना बड़ा भी रसूखदार क्यों न हो, कार्रवाई की जायेगी.

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *