भागलपुर:दो दिनों की हड़ताल से करोड़ों का नुकसान

ट्रेड यूनियनों और बैंक यूनियन की ओर से दो दिन से चल रही हड़ताल बुधवार को समाप्त हो गया। गुरुवार से जिले के सभी बैंकों की शाखाएं खुलेंगी। ग्राहकों और व्यापारियों को राहत मिलेगी। दो दिन बैंक बंद होने की वजह से 850 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ। पहले दिन जहां 500 करोड़ का टर्न ओवर प्रभावित हुआ था। वहीं, दूसरे दिन यह आंकड़ा 350 करोड़ तक ही पहुंचा। बुधवार को स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की शहर और ग्रामीण क्षेत्रों की शाखाएं खुली रही। बैंकों में पूरे दिन लेनदेन हुआ। एसबीआइ की कई एटीएम खराब होने से लोगों को काफी परेशानियां हुई। मुख्य शाखा में के नीचे आधा दर्जन मशीन में दो मशीन ही काम कर रही थी।

 

इधर, सुबह दस बजे से ही एआइबीइए और बीपीवीईए यूनियन के संयुक्त महासचिव एपी सिंह, बीपीवीए के चेयरमैन के एनके सिन्हा, तारकेश्वर घोष, नकुल रजक, देना बैंक के अमृत कुमार सोनी, कृष्ण कुमार, एमके अग्रवाल, पप्पू कुमार, अलका कुमारी, विकास कुमार, बीइएफआइ के जिला सचिव जेपी झा के नेतृत्व में बैंक कर्मचारियों ने पटल बाबू रोड स्थित आइसीआइसीआइ बैंक के समक्ष एकजुट हुए और केंद्र की नीतियों के विरोध में जमकर नारेबाजी की। निजी बैंक और एटीएम को भी बंद कराया। इधर, यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (यूएफबीयू)के भागलपुर जिला संयोजक और एआइबीइए के सचिव अरविंद कुमार रामा ने बताया कि प्राइवेट बैंक और इसके कुछ एटीएम बंद रहे। बीमा कर्मचारी संघ के महामंत्री राजेश प्रसाद के नेतृत्व में कार्यालय के समक्ष धरना दिया गया। आयकर विभाग, डाकघर, बीएसएनएल कार्यालय भी बंद रहे।

 

हड़ताल का असर मार्केट पर व्यापारी चिंतित

बैंक हड़ताल का असर दूसरे दिन भी मार्केट पर दिखा। दूसरे दिन भी कारोबार पूरी तरह प्रभावित रहा। इससे व्यापारियों को परेशानियां हुई। इधर, भागलपुर जिला अग्रवाल सम्मेलन के अध्यक्ष और चेंबर सदस्य कुंज बिहारी झुनझुनवाला ने कहा कि बैंक हड़ताल का असर पूरी तरह कारोबार पर पड़ता है। दूसरे दिन भी 50 से 55 करोड़ के पास कारोबार प्रभावित हुआ। थोक मंडी में बाहर के व्यापारी नहीं दिखे। पीएम को पत्र लिखकर बैंकों में हड़ताल रोकने की मांग की है।

बंद और हड़ताल के नाम पर जबरन दुकानें कराई बंद, शहर जाम, परेशान रहे लोग

ट्रेड यूनियन के साथ राजद की बंदी और हड़ताल से शहरवासी परेशान दिखे। राजद और ट्रेड यूनियन के बुधवार की सुबह स्टेशन चौक को जाम कर दिया। इस कारण दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लगी गई। इसके बाद जुलूस में शामिल लोग नारेबाजी करते हुए बाजार की ओर रूख किए और घूम-घूमकर दुकानों को जबरन बंद कराया। दोपहर तक दुकानें बंद रही। इससे व्यापारियों और आम लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। जुलूस और प्रदर्शन की वजह से शहर की मुख्य सड़कें भी जाम रहा। ऐसे में लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

 

दरअसल, ट्रेड यूनियनों के हड़ताल का राजद ने भी समर्थन किया था। बिहार बंद का आह्वान किया था। सुबह राजद के जिलाध्यक्ष तिरुपतिनाथ यादव जि़ला प्रभारी जाहिद अंसारी, ग़ुलाम सबिर, असलम खान, बिस्वजित कसवहा, गद्दु यादव, इरसद फतहपुरी , मुन्ना खान, धीरज कुमार, विकास कुमार सहित सैकड़ों कार्यकर्ता स्टेशन चौक पहुंचे। इधर, ऐक्टू के राज्य सह जिला सचिव मुकेश मुक्त, एटक के जिला महासचिव सुधीर शर्मा, सीटू के राज्य कार्यकारिणी सदस्य मनोहर मंडल, एआइयूटीयूसी के जिला प्रभारी निर्मल कुमार व सेवा की जिलाध्यक्ष श्वेता चौबे ने सड़क जाम करने के बाद उप श्रमायुक्त कार्यालय के समक्ष प्रदर्शन किया। वहीं, भाकपा-माले के राज्य कमिटी सदस्य एस के शर्मा, सहित वाम नेताओं ने मोदी सरकार की कॉरपोरेट नियमों का पुरजोर विरोध किया।

एक्टू की महिलाओं ने आम लोगों पर चलाए हाथ

स्टेशन पर प्रदर्शन के दरम्यान हड़ताल में शामिल आंगनबाड़ी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति से जुड़ी सेविकाएं भी थीं। स्टेशन चौक पर जाम के दौरान कोई भी निकल रहा था, उसपर महिलाएं टूट पर रही थी। लोगों से मारपीट पर उतारू हो रही थी। विरोध प्रदर्शन में शीलम कुमारी, सुभद्रा कुमारी, सुनैना देवी, रेखा देवी, रंजना कुमारी, रीना कुमारी, अंजू देवी, आनंद लता देवी सहित कई थे।

ई-रिक्शा को बनाया निशाना, पैसेंजर भागे

ट्रेड यूनियन की हड़ताल के दूसरे दिन राजद ने भी समर्थन किया था। स्टेशन चौक पर राजद के कार्यकर्ताओं ने ई-रिक्शा और ऑटो चालकों का निशाना बनाया। गाडिय़ां पर लाठी-डंडे से हमला कर दिया। इससे वाहन में सवार यात्री डरकर भाग निकले। लोगों में दशहत दिखा।

रेल यात्री हुए परेशान

स्टेशन चौक जाम की वजह से रेल यात्रियों को भी परेशानियां हुई। ट्रेन से उतरने के बाद जब यात्री ऑटो पकडऩे के लिए बाहर निकले तो जाम की वजह से ऑटो नहीं मिले। ऐसे में यात्रियों को घंटों तक स्टेशन पर भी रुकना पड़ा।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *