बैंककर्मियों की दो दिनों की हड़ताल आज से,एलआईसी-जीआईसी का साथ

 

विभिन्न बैंकों के कर्मचारी एक बार फिर हड़ताल पर जाने वाले  हैं। मंगलवार और बुधवार को  बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहेंगे।  इस हड़ताल की वजह से बैंकिंग  सेवाओं पर असर पड़ेगा। 10 सेंट्रल  ट्रेड यूनियन्स ने इस हड़ताल का  आह्वान किया है।  इन संगठनों का आरोप है कि केंद्र सरकार ने बैंक कर्मचारियों  के हित में कदम नहीं उठाए।  हड़ताल को लेकर सोमवार को  बिहार प्रोबिशिंयल बैंक इंप्लाई  एसोसिएशन के भागलपुर के  चेयरमैन एन के सिन्हा के नेतृत्व में  यूनियन के नेताओं व बैंककर्मियों  ने खलीफाबाग चौक पर प्रदर्शन  किया। बैंककर्मियों ने केंद्र सरकार  के खिलाफ नारेबाजी की। हड़ताल  को सफल बनाने के लिए विभिन्न  बैंकों में संपर्क अभियान चलाया  गया। प्रदर्शन में कामरेड एपी सिंह,  तारकेश्वर घोष, नकुल रजक, एनके  अग्रवाल, पंकज रजक, नेहा कुमारी  के अलावा 25 बैंककर्मी शामिल  थे। एसोसिएशन के चेयरमैन एनके  सिन्हा ने बताया कि भागलपुर जिले  के करीब 800 से अधिक बैंककर्मी  48 घंटे तक हड़ताल पर रहेंगे।  मंगलवार सुबह छह बजे से ही  हड़ताल शुरू होगा। उन्होंने बताया  कि मंगलवार को इलाहाबाद बैंक,  यूको बैंक, बैंक ऑफ इंडिया के  जोनल ऑफिसों को बंद कराया  जाएगा। उन्होंने बताया कि भागलपुर  जिले के 150 से अधिक ब्रांच के  बैंककर्मी मंगलवार से हड़ताल में  रहेंगे। उन्होंने बताया कि हड़ताल  में एलआईसी व जेआईसी के  अलावा बीएसएनएल के कर्मी भी  सहयोग करेंगे।

बैंक कर्मचारियों के संगठन केंद्र सरकार की नीतियों को श्रमिक  विरोधी बता रहे हैं। दिसंबर में  क्रिसमस के बाद से पहले छुट्टियों  और बाद में हड़ताल के वजह से  बैंकिंग सेक्टर के कामकाज पर  असर पड़ा। अब नए साल में भी  हड़ताल से ये सेक्टर लोगों की  परेशानियां बढ़ाएगा।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *