बीएड की फीस कम कराने की मांग पर छात्रों ने दिया धरना,विवि के प्रशासनिक गेट पर दो घंटे किया हंगामा 

 

टीएमबीयू के बीएड कॉलेजों में फीस कम करने की मांग जोर पकड़ने लगी है। मामले को  लेकर छात्र दो बार पहले भी विवि पहुंचे थे और  शनिवार को भी गए। इस बार छात्र वहां धरने  पर बैठ गए। छात्र प्रशासनिक भवन के गेट पर  ही धरने पर बैठ गए। इससे लगभग दो घंटे तक  आवागमन बाधित रहा और अधिकारियों से लेकर  कर्मचारी तक फंसे रहे। प्रभारी कुलपति प्रो. लीला  चंद साहा को सीनेट हॉल में एक कार्यक्रम में  जाना था। इसके लिए उन्हें सीनेट हॉल की तरफ  वाले गेट से निकलना पड़ा। बाद में विवि थाने  की पुलिस विवि पहुंची तो छात्रों को समझाकर  वहां से हटाया गया। बीएड के सत्र 2017- 19 के छात्र अभिषेक तिवारी, विवेक कुमार,  आशुतोष शरण ने बताया कि हाईकोर्ट ने बीएड  की अधिकतम फीस डेढ़ लाख तय की है। साथ ही कहा है कि यह फीस कॉलेज में उपलब्ध संसाधन के आधार पर कम भी की जा सकती  है। विवि को कॉलेजाें के संसाधन की जांच कर  फीस तय करनी चाहिए। छात्रों ने बताया कि ज्यादातर बीएड कॉलेजों में शिक्षकों की कमी है।  कई जगह 16 शिक्षकों की जगह चार-पांच से  ही काम चलाया जा रहा है। कहीं लाइब्रेी ढंग  की नहीं है तो कहीं पुस्तकालय बदहाल है। इसी  वजह से बीआरए विवि मुजफ्फरपुर में बीएड  की फीस एक लाख दो हजार रुपए तय की गई  है। छात्रों ने छह सूत्री मांगों का आवेदन प्रभारी  कुलपति को सौंपा। छात्रों ने कहा कि फीस वृद्धि  मामले में जल्द कोई निर्णय विवि नहीं करेगा  तो 16 जनवरी से अनशन किया जाएगा। सीनेट  सदस्य मुजफ्फर अहमद ने भी बीएड कॉलेजों के  द्वारा छात्रों से अधिक फीस वृद्धि वसूलने को  गलत बताया।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *