बंगाल की आखिरी जंग: कड़ी सुरक्षा के बीच होगी वोटिंग, 9 सीटों पर 710 कंपनियों की तैनाती

लोकसभा चुनाव के आखिरी चरण में जिन सीटों पर हर किसी की नज़र है वो हैं पश्चिम बंगाल की 9 सीटें. बंगाल में जिस तरह से पहले चरण के बाद से ही हिंसा हो रही थी, आखिर दौर तक आते-आते वह अपने चरम पर पहुंच गई है. इसी को देखते हुए चुनाव आयोग ने वहां प्रचार का समय भी घटा दिया था, जो कि देश के इतिहास में पहली बार ही हुआ है. हिंसा के डर से सुरक्षा को और पुख्ता किया गया है साथ ही केंद्रीय बलों की करीब 710 कंपनियों को तैनात किया जाएगा.

चुनाव आयोग ने बताया कि दक्षिण बंगाल की 9 संसदीय सीटों पर रविवार को चुनाव होंगे जहां 111 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला 1,49,63,064 मतदाता के हाथों में होगा. चुनाव आयोग के अधिकारियों ने बताया कि रविवार को स्वतंत्र एवं निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिए 9 सीटों के लगभग सभी मतदान केंद्रों पर आयोग ने केंद्रीय बलों की कुल 710 कंपनियों की तैनाती की है.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोडशो के दौरान शहर में तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा के मद्देनजर यह आदेश दिया गया.

चुनाव आयोग के फैसले के खिलाफ है विपक्षी

इस बीच कांग्रेस समेत तीन विपक्षी पार्टियों ने इस आदेश को लेकर चुनाव आयोग से मुलाकात की और इसे समान अवसरों के सिद्धांत का “उल्लंघन” बताया और चुनाव निकाय से प्रचार के लिए कम से कम आधा और दिन देने की अपील की है. बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी लगातार चुनाव आयोग के इस फैसले को गलत बता रही हैं और बीजेपी के दबाव में थोपने वाला कह रही हैं.

आखिरी चरण से पहले कोलकाता में शाह के रोड शो में बवाल और उस दौरान ईश्वरचंद विद्यासागर की मूर्ति के साथ हुई तोड़फोड़ की वजह से ममता ने बंगाली अस्मिता का मुद्दा उठाया है तो बीजेपी भी टीएमसी पर लोकतंत्र का गला घोंटने का आरोप लगाते हुए राष्ट्रवाद पर आगे बढ़ रही है.

9 सीटों पर आर-पार, बनेगी किसकी सरकार?

रविवार को जिन सीटों पर चुनाव होने हैं उनमें कोलकाता उत्तर एवं कोलकाता दक्षिण, दमदम, बारासात, बशीरहाट, जादवपुर, डायमंड हार्बर, जयनगर (आरक्षित) और मथुरापुर (आरक्षित) सीट शामिल है. ये सभी 9 सीटें BJP के लिए मुश्किलें पैदा कर सकती हैं. 2014 में भी बीजेपी ने इनपर ताकत झोंकी थी, लेकिन तब मोदी का सिर्फ चेहरा था और अमित शाह की रणनीति नहीं थी.

इन 9 में से दो को छोड़कर किसी भी सीट पर बीजेपी को दूसरा नंबर भी नसीब नहीं हुआ. खास बात ये भी है कि इन्हीं से एक डायमंड हार्बर सीट पर ममता के भतीजे अभिषेक भी लड़ रहे हैं, यही कारण है कि ममता ने इसे अपनी साख की लड़ाई बना लिया है. तो वहीं बीजेपी भी कुछ शहरी सीटें होने के कारण अपने लिए जीत की आस लगाए बैठी है.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *