पीएनबी घोटाला में आरोपी मेहुल चोकसी ने किया भारत आने से इनकार

पंजाब नेशनल बैंक को करोड़ों रुपये का चूना लगाने के बाद विदेश भाग चुके हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी ने शनिवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से कहा कि वह तीन महीने तक भारत नहीं आ सकते हैं। इसके साथ में चोकसी ने यह भी कहा कि अगर इस दौरान ईडी उनका बयान लेना चाहती है तो वह एंटीगुआ आएं या फिर उनके स्वस्थ्य होने का इंतजार करें। बता दें कि मेहुल चोकसी को भगोड़ा घोषित करने को लेकर दायर याचिका पर आज मुंबई की अदालत में सुनवाई हुई। सुनवाई के दौरान अदालत में मौजूद मेहुल चोकसी के वकील ने कोर्ट में कहा कि चोकसी यात्रा करने के लिए अभी पूरी तरह से स्वस्थ्य नहीं हैं। इसलिए अदलात वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से उनके बयान ले सकती है। इसके साथ ही वकील ने कहा कि मेहुल स्वस्थ्य होने के बाद कोर्ट में आकर बयान दर्ज कराएंगे। 

उल्लेखनीय है कि ईडी ने मुंबई की अदालत में मेहुल चोकसी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने को लेकर याचिका दायर की है। चोकसी पंजाब नेशनल बैंक में करीब 13 हजार 400 करोड़ रुपये के घोटाले में अपने भांजे नीरव मोदी के साथ मुख्य आरोपी है। वह फिलहाल एंटीगुआ की नागरिकता लेकर रह रहा है और भारतीय जांच एजेंसियां उसके प्रत्यर्पण की कोशिश कर रही हैं। इससे पहले, पिछली सुनवाई के दौरान अदालत ने ईडी को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया था। 

पिछली सुनवाई में भी दिया था इन बीमारियों का हवाला
वहीं चोकसी एक प्रार्थना पत्र में लिखा था कि वह 2012 से दिमाग में खून के थक्के से पीड़ित है और उसे पिछले 20 साल से मधुमेह की भी शिकायत है। इसके अलावा उसे दिल की भी कई तरह की समस्याओं से जूझना पड़ रहा है। इतनी सारी परेशानियों के कारण उसने खुद को 41 घंटे लंबी हवाई यात्रा करने लायक नहीं बताया था। 

नीरव मोदी भी दाखिल कर चुका है ऐसा ही प्रार्थना पत्र
बता दें कि सोमवार को चोकसी के भांजे नीरव मोदी ने भी मनी लांड्रिंग एक्ट की विशेष अदालत के सामने 10 प्रार्थना पत्र ही दाखिल किए थे और उसका भी सारा जोर खुद को भगोड़ा घोषित किए जाने से ईडी को रोकने पर ही रहा था।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *