ग्रिड फेल होने पर भागलपुर शहर में नहीं होगा ब्लैक आउट

 

अगले कुछ दिनों में शहर में बिजली वितरण व्यवस्था ट्रांसमिशन से ऐसे जुड़ जाएगी कि ग्रिड फेल होने पर भी ब्लैक आउट नहीं होगा। भागलपुर शहर तीन-तीन ग्रिड की बिजली से रौशन होगा। आईपीडीएस योजना के तहत इसपर काम शुरू हो गया है। मध्य शहर में गोराडीह स्थित बिहार ग्रिड से बिजली आएगी तो नाथनगर सबस्टेशनों को जगदीशपुर में बन रहे पावर ग्रिड से जोड़ा जाएगा।

 

डीजीएम सह अधीक्षण अभियंता श्रीराम सिंह ने बताया कि 387 करोड़ की इस योजना पर कार्य शुरू हो गया है। गोराडीह की ओर से 33 केवीए लाइन के कई टावर खड़े कर दिए गए हैं। इसकी बिजली सीधे भीखनपुर में बन रहे नए सबस्टेशन को दी जाएगी। उसी तरह से नाथनगर पावर सबस्टेशन को बिजली आपूर्ति का संकट भी खत्म हो जाएगा। फिलहाल सबौर ग्रिड के 33 केवीए लाइन पर लोड कम करने के लिए इस सबस्टेशन को सुल्तानगंज ग्रिड से बिजली दी जा रही है। लेकिन अगले एक साल में इस सबस्टेशन जगदीशपुर ग्रिड से बिजली दी जाएगी। क्योंकि किसी तरह का फॉल्ट होने पर नाथनगर से सुल्तानगंज के बीच लाइन चेक करने में काफी परेशानी होती है। 25 किमी की दूरी है, इसलिए लाइन दुरुस्त होने में कम से कम 8 से 10 घंटे लग जाते हैं। ऐसे में जगदीशपुर ग्रिड से बिजली मिलने से यह परेशानी कम हो जाएगी।

 

सबसे पहले भीखनपुर पीएसएस शुरू होगा : शहर में छह सबस्टेशन बन रहे हैं। नए सबस्टेशनों को बिजली आपूर्ति के लिए नई लाइन भी बनायी जाएगी। भीखनपुर सबस्टेशन इनमें से पहला सबस्टेशन होगा, जहां से पहले बिजली आपूर्ति होगी। इसलिए गोराडीह बिहार ग्रिड से इसे जोड़ा जा रहा है।

 

 

साल में 30-35 ब्लैक आउट : औसतन हर महीना ग्रिड में खराबी के कारण दो से तीन बार पूरी बिजली आपूर्ति बंद कर दी जाती है। इसे ग्रिड फेल होना कहा जाता है। भले ही आधा घंटा के लिए हो लेकिन शहर ब्लैक आउट हो जाता है। औसतन साल में 30-35 बार ऐसी स्थिति आती है।

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *