कोरोना वायरस को लेकर जारी संकट के बीच सियासत थम नहीं रही है, प्रशांत किशोर का नीतीश पर तीखा हमला बोला

PATNA : कोरोना वायरस को लेकर जारी संकट के बीच सियासत थम नहीं रह रही है. नीतीश कुमार के पुराने सिपाहसलार रहे प्रशांत किशोर ने उन पर आज तीखा हमला बोला है. प्रशांत किशोर ने ट्वीटर पर लिखा है-#SHAMEONNITISHKUMAR. यानि नीतीश कुमार शर्म करें.

प्रशांत किशोर का हमला

प्रशांत किशोर ने ट्वीटर के माध्यम से नीतीश कुमार पर हमला बोला है. उन्होंने ट्वीट किया है “दिल्ली और कई अन्य जगहों पर बिहार के सैकडो गरीब लोग लॉकडाउन की वजह से फंसे हुए हैं. नीतीश कुमार जी, जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं तब बिहार सरकार इन लोगों को उनके घरों तक पहुंचाने या जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही है?” एक दूसरे ट्वीट में प्रशांत किशोर ने लिखा है-#SHAMEONNITISHKUMAR. यानि नीतीश कुमार शर्म करें.

गौरतलब है कि नीतीश कुमार के खास सिपाहसलार रह चुके प्रशांत किशोर इन दिनों उनके बड़े दुश्मन बन चुके हैं. नीतीश कुमार के खिलाफ बिहार के लोगों को गोलबंद करने के लिए प्रशांत किशोर बात बिहार की मुहिम चला रहे हैं. उनका लक्ष्य है कि वे बिहार के 20 लाख युवाओं को अपने साथ जोड़े और फिर सत्ता परिवर्तन की भूमिका तैयार करें. लिहाजा प्रशांत किशोर लगातार नीतीश कुमार पर निशाना साध रहे हैं. कोरोना वायरस के खतरे के समय भी उन्होंने नीतीश कुमार पर निशाना साधा है.

 

 

 

 

Prashant Kishor

@PrashantKishor

#shameonNitishKumar https://twitter.com/PrashantKishor/status/1242740558717566976 …

 

Prashant Kishor

@PrashantKishor

दिल्ली और अन्य कई जगहों पर बिहार के सैकड़ों गरीब लोग #lockdown की वजह से फँसे हुए हैं।@Nitishkumar ji, जब दुनिया भर की सरकारें अपने लोगों की मदद कर रही हैं, बिहार सरकार इनलोगों को इनके घरों तक पहुँचाने अथवा जहां ये लोग हैं वहीं कुछ फ़ौरी राहत की व्यवस्था क्यों नहीं कर रही है?

21 दिनों के लॉक डाउन का भी विरोध

इससे पहले प्रशांत किशोर ने 21 दिनों के लॉक डाउन का भी विरोध किया है. ट्वीटर पर उन्होंने कहा है कि लॉक डाउन का निर्णय तो ठीक है लेकिन 21 दिनों का वक्त काफी लंबा है. इससे गरीबों को काफी परेशानियां होने जा रही है. प्रशांत किशोर ने कहा है कि आगे आने वाले दिन भारत के लिए काफी मुश्किल भरे होंगे.

Advertisements

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *